पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Students Are In Financial Crisis Due To Corona Epidemic, Admission Fee Should Be Reduced

एनएसयूआई की यूनिवर्सिटी से मांग:कोरोना महामारी से आर्थिक संकट में हैं छात्र, एडमिशन फीस घटाई जाए

सूरतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर आने से मार्च, अप्रैल और मई में रोजगार-कारोबार पूरी तरह से बंद थे। इससे अभिभावकों के साथ छात्र भी आर्थिक संकट झेल रहे हैं। एनएसयूआई ने कुलपति को आवेदन रेकर एडमिशन फीस घटाने की मांग की है। एनएसयूआई के अध्यक्ष मनीष देसाई ने बताया कि शैक्षणिक वर्ष 2021-22 के एडमिशन प्रोसेस शुरू होने वाला है।

इस साल कोरोना महामारी के चलते अभिभावक और छात्र आर्थिक संकट झेल रहे हैं। इस साल एडमिशन फीस कम होने से छात्रों को बड़ी राहत मिल सकती है। मनीष देसाई ने कहा कि हमने कुलपति को आवदेन देकर एडमिशन फी घटाने की मांग की है।

मार्च, अप्रैल और मई में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे थे। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए अभिभावकों ने सरकार की गाइडलाइन का पालन करते हुए अपने रोजगार-धंधे बंद रखे थे। यूनिवर्सिटी छात्रों की मदद करेगी तो वे अच्छी तरह से पढ़ाई कर सकेंगे।

एबीवीपी के आंदोलन के बाद बीएचयू के छात्रों ने लौटाई मार्कशीट

एबीवीपी के आंदोलन के बाद बीएचयू के छात्रों ने मार्कशीट लौटा दी है। एबीवीपी ने कहा था कि केमिस्ट्री में पढ़ने वाले छात्र आर्थिक तंगी के कारण फीस नहीं भर सके थे। यूनिवर्सिटी ने परीक्षा लेने के बाद छात्रों को मार्कशीट नहीं दी थी। एबीवीपी के आंदोलन के बाद यूनिवर्सिटी ने तीन-चार दिनों में मार्कशीट देने का आश्वासन दिया था।

खबरें और भी हैं...