पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • The 'pass' Leader, Who Came Out Of The Bullock Cart While Singing, Left The Congress Candidature At The Last Moment, Saying Congress And Hardik Stabbed In The Back

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजनीति:साथी नेता की पत्नी को कांग्रेस से नहीं मिला टिकट तो एन वक्त पर खुद की भी उम्मीदवारी छोड़ी, बैलगाड़ी से पहुंचे थे नामांकन दाखिल करने

सूरत19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पाटीदार आरक्षण आंदोलन में हार्दिक पटेल के साथी थे धार्मिक मालवीय। - Dainik Bhaskar
पाटीदार आरक्षण आंदोलन में हार्दिक पटेल के साथी थे धार्मिक मालवीय।
  • धार्मिक का कहना है कि कांग्रेसी नेताओं ने वादा करने के बाद एन वक्त पर धोखा दे दिया
  • पाटीदार आंदोलन में साथी रहे नेता संजय धोराजिया की पत्नी को टिकट दिलाना चाहते थे धार्मिक

सूरत में कांग्रेस ने पाटीदार आंदोलन के नेता और हार्दिक पटेल के साथी रहे धार्मिक मालवीय ने एन वक्त पर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने से मना कर दिया। धार्मिक गाते-बजाते बैलगाड़ी से नामांकन दाखिल करने कलेक्टर ऑफिस पहुंचे थे, लेकिन जब वहां उन्हें मालूम हुआ कि कांग्रेस ने उनके साथी संजयभाई की पत्नी को टिकट नहीं दिया है तो नाराज हो गए और खुद भी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने से मना कर दिया।

कलेक्टर ऑफिस में जब मालूम हुआ कि कांग्रेस ने उनके साथी संजयभाई की पत्नी को टिकट नहीं दिया है तो खुद ने भी अपना नामांकन वापस ले लिया।
कलेक्टर ऑफिस में जब मालूम हुआ कि कांग्रेस ने उनके साथी संजयभाई की पत्नी को टिकट नहीं दिया है तो खुद ने भी अपना नामांकन वापस ले लिया।

कौन हैं संजयभाई और धार्मिक क्यों चाहते थे उनकी पत्नी को टिकट दिलाना
विलासबेन, संजयभाई धोराजिया की पत्नी हैं और संजयभाई ने ही पाटीदार अनामत आंदोलन के बाद पाटीदारों के खिलाफ दर्ज केस लड़े थे। इसीलिए पाटीदार समाज संजयभाई का बहुत सम्मान करता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए धार्मिक ने वार्ड नंबर 17 से संजयभाई की पत्नी विलासबेन को कांग्रेसी उम्मीदवार बनाए जाने की मांग की थी।

एन वक्त पर अपनी उम्मीदवारी भी छोड़ दी
कांग्रेस के टिकट पर अपना नामांकन दाखिल करने कलेक्टर ऑफिस पहुंचे धार्मिक को जब मालूम हुआ कि नामांकन भरने में अब कुछ मिनट का ही समय बचा है और विलासबेन को अब तक कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार नहीं बनाया है तो उन्होंने भी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने से मना कर दिया। अपना नामांकन वापस लेते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस और हार्दिक पटेल ने मेरी पीठ में धोखे का खंजर घोंपा है और अब मैं कांग्रेस को हराने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दूंगा।

गुजरात के इन शहरों में होने हैं चुनाव

गुजरात के अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, वडोदरा, जामनगर और भावनगर नगर निगम चुनाव के लिए 21 फरवरी को वोटिंग होगी। वोटों की गिनती 23 फरवरी को होगी। राज्य की 31 जिला पंचायत, 231 तहसील पंचायत और 81 नगर पालिकाओं के लिए वोटिंग 28 फरवरी को होगी और वोटों की गिनती 2 मार्च को होगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

    और पढ़ें