• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Target To Increase Income From Treated Water From 140 To 550 Crores, Many Industries Are Now Using Drinking Water

स्थायी समिति की बैठक:ट्रीटेड पानी से आय 140 से बढ़ाकर 550 करोड़ तक करने का लक्ष्य, अभी कई इंडस्ट्री पीने का पानी का कर रहीं उपयोग

सूरत12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
58 काम मंजूर, कड़ोदरा, पलसाना और हजीरा की इंडस्ट्रियों को ट्रीटेड पानी देंगे। - Dainik Bhaskar
58 काम मंजूर, कड़ोदरा, पलसाना और हजीरा की इंडस्ट्रियों को ट्रीटेड पानी देंगे।

गुरुवार को मनपा की स्थायी समिति की बैठक में समिति के चेयरमैन और मनपा आयुक्त के बीच पानी से आवक बढ़ाने को लेकर चर्चा हुई। चेयरमैन परेश पटेल ने बताया कि पीने के पानी की जरूरत लगातार बढ़ रही है। आगामी 2-3 साल में पीने के पानी की किल्लत न हो, इसलिए मनपा ने ट्रीटेड और रीयूज पानी इंडस्ट्री को सप्लाई करने का लक्ष्य रखा है।

इससे पीने के पानी को शहर के लोगों के लिए बचाने का विचार कर रही है। वर्तमान में टर्सरी ट्रीटमेंट प्लांट से शहर के पांडेसरा और सचिन जीआईडीसी में पानी सप्लाई कर 140 करोड़ रुपए की सालाना आय की जा रही है। इस आवक को 550 करोड़ तक ले जाने के लिए कड़ोदरा, पलसाना और हजीरा की इंडस्ट्रियों को ट्रीट किया गया पानी बेचा जाएगा। मींढोला नदी से पानी लेकर भी सप्लाई किया जा सकता है।

मींढोला नदी से पानी लेकर भी सप्लाई करने की मनपा की है योजना

रीडिंग रूम बनाने के लिए ठेकेदार को बुलाएंगे

सूरत महानगर पालिका के मुख्य कार्यालय में गुरुवार को हुई स्थायी समिति की बैठक में एजेंडे के 58 काम थे। इन सभी कामों को मंजूर कर लिया गया। इसमें नाणावट में रीडिंग रूम के निर्माण का काम भी पारित कर दिया गया, लेकिन इसमें ठेकेदार को रूबरू बुलाकर बात करने का निर्णय लिया है।

स्वच्छ भारत मिशन में दूसरे स्थान पर पहुंचाने वाली थर्ड पार्टी को 6 महीने का ठेका देंगे
स्थायी समिति की बैठक में शहर की साफ-सफाई के लिए ठेका देने का का निर्णय लिया गया। समिति में पेश किए गए प्रस्ताव के मुताबिक स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत आगामी 9 महीने के लिए थर्ड पार्टी केपीएमजी को 1 करोड 18 लाख 94 हजार रुपए का ठेका देना था। समिति ने तय किया कि उसे अब सिर्फ 6 माह का ठेका दिया जाएगा। इससे 38 लाख रुपए का खर्च कम होगा। स्थायी समिति के चेयरमैन परेश पटेल ने बताया कि यह वही कंपनी है जिसे ठेका देने पर स्वच्छता में सूरत देश का दूसरे नंबर का शहर बना था।

खबरें और भी हैं...