पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • The Corona Patient Died, The Son Also Performed The Last Rites, 11 Days Later A Call From The Hospital That Your Mother Is Now Well, Taking Medicines On Time

गुजरात के सिविल अस्पताल की लापरवाही:कोरोना मरीज की मौत हो गई, बेटे ने अंतिम संस्कार भी कर दिया, 11 दिन बाद अस्पताल से फोन आया कि आपकी मां अब ठीक हैं, समय से दवाई ले रही हैं

सूरत7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जब अस्पताल में भर्ती थी रुकमाबेन
  • कोरोना प्रोटोकॉल से हुआ था अंतिम संस्कार
  • बेटे ने अस्पताल को बताया- वो तो मर चुकी हैं
Advertisement
Advertisement

अमरोली के एक परिवार के सदस्यों के होश तब उड़ गए जब सिविल अस्पताल के कंट्रोल रूम से उनके पास फोन आया। फोन करने वाले ने कहा- आपकी मां अब ठीक हैं, समय से दवाई ले रही हैं। हमारी कोशिश है कि वे जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। इस पर पूरा परिवार स्तब्ध रह गया, क्योंकि जिस महिला के बारे में फोन करने वाला बता रहा था उनकी माैत 11 दिन पहले ही हो चुकी थी।

मृतक महिला के बेटे ने फोन करने वाले से कहा- मेरी मां की माैत 11 दिन पहले ही हो चुकी है, आपको यह जानकारी किसने दी। पहले पता कर लीजिए। उसके बाद कंट्रोल रूम से बात करने वाले ने कहा- ठीक है, पता करके वापस फोन करता हूं। हालांकि उसके बाद फोन नहीं आया। इस घटना से परिजनों में फिर से मातम फैल गया। परिजनों का कहना है कि घटना फिर से ताजा हो गई।

यह था मामला: कोरोना प्रोटोकॉल से हुई अंतिम विधि

अमरोली के गीता नगर की रहने वाली 65 वर्षीय रुकमाबेन सूर्यवंशी को 18 जुलाई को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। दूसरे दिन उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। 20 जुलाई को बेटे को जानकारी मिली कि मां की हालत स्थिर है। उन्हें जी 4 वार्ड में भर्ती किया गया है। शाम 4 बजे पता चला कि तबीयत अचानक बिगड़ गई।

उसके बाद उनकी मौत हो गई। बेटे पवन की माैजूदगी में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। 30 जुलाई को सिविल अस्पताल के कंट्रोल रूम से पवन को फोन आया कि उनका इलाज चल रहा है, तबीयत ठीक हो रही है।

ये बात हुई: बेटे ने अस्पताल को बताया- वो तो मर चुकी हैं

कंट्रोल रूम: नमस्कार सर, हम सिविल अस्पताल के कंट्रोल रूम से बोल रहे हैं। पवन: हां, बोलो। कंट्रोल रूम: रुकमा बेन के संबंधी बोल रहे हैं? पवन: हां, मैं उनका बेटा बोल रहा हूं। कंट्रोल रूम: नाम जान सकता हूं साहब? पवन: पवन सूर्यवंशी। कंट्रोल रूम: पवन भाई, धन्यवाद। पवन: हां, हां। कंट्रोल रूम: पवन भाई आपकी जानकारी के लिए फोन किया था। हाल ही में रुकमाबेन को सिविल में एडमिट किया था न? पवन: जी हां। कंट्रोल रूम: उनकी तबीयत अब ठीक है, वह स्टेबल हैं, डॉक्टर और नर्स ध्यान दे रहे हैं। पवन: यह मैसेज किसने दिया आपको? कंट्रोल रूम: सिविल अस्पताल से मिला। पवन: आपको बता दूं कि मेरी मां की मौत तो 11 दिन पहले ही हो चुकी है। कंट्रोल रूम: क्या बात कर रहे हैं? पवन: हां। कंट्रोल रूम: रियली सॉरी। पवन: ओके, ओके।

इससे पहले भी हो चुकी है लापरवाही

सिविल अस्पताल में कोरोना के मरीजों का इलाज चल रहा है। काम का दबाव ज्यादा होने से मार्च से अब तक लापवाही के कई मामले आ चुके हैं। एक बार तो ऐसा हुआ कि एक कोरोना मरीज की मौत हो गई। अस्पताल ने कोरोना प्रोटोकाॅल के तहत उसका अंतिम संस्कार करवा दिया, परिजनों को इसकी जानकारी तक नहीं दी। कई बार कोरोना से जान गंवाने वालों के शव को भी देरी से अंतिम विधि के लिए भेजने का मामला सामने आ चुका है।

पीड़ित का नाम दीजिए, पता करती हूं

मैं मृतक के परिवार के सदस्यों की स्थिति समझ सकती हूं। मुझे पीड़ित का नाम और डिटेल दीजिए हेल्प डेस्क से पता करती हूं।
-डॉ. रागनी वर्मा, अधीक्षक, सिविल अस्पताल

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement