• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • The lockdown reduced the income of villagers by 69%, loss of 50 thousand monthly to farmers, 7.20% people became unemployed due to loss of job

कोविड-19 / लॉकडाउन से 69% घट गई ग्रामीणों की आय, किसानों को मासिक 50 हजार का नुकसान, 7.20% लोग नौकरी जाने से बेरोजगार हो गए

X

  • प्रदेश के 22 जिले के गांवों में 210 लोगों पर नर्मद यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने किए सामाजिक और आर्थिक सर्वे

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सूरत. वीर नर्मद दक्षिण गुजरात यूनिवर्सिटी के महात्मा गांधी ग्राम अध्ययन विभाग के प्रोफेसर डॉ. श्रीधर नीमावत ने ग्रामीण लोगों पर सामाजिक और आर्थिक सर्वे किया है। लॉकडाउन से 69% ग्रामीणों की आय घट गई है। किसानों को प्रतिमाह 50 हजार का नुकसान हो रहा है। 7.20% की नौकरी चली गई। डॉ. श्रीधर नीमावत ने बताया कि सूरत समेत 22 जिलों के गांवों में 210 लोगों पर सर्वे किया गया। 96% कोरोना से सतर्क हैं। 97% लॉकडाउन को सही बता रहे हैं। 51% में जागरूकता का अभाव है। 67% कोरोना को लेकर गंभीर नहीं हैं। 25.60% लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। 87% का मानना है कि आर्थिक स्थिति खराब होगी, 84% की राय है कि इससे बेरोजगारी बढ़ेगी।
60% लोग पूजा-पाठ तो 71% टिकटॉक, इंस्टाग्राम का इस्तेमाल कर रहे
60.2% लाेगों ने बताया कि लॉकडाउन में भगवान की पूजा-अर्चना पर ध्यान दे रहे हैं। 70.90% लोग सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, इन्टाग्राम, वॉट्सएप, यू-ट्यूब और टिकटॉक का इस्तेमाल कर रहे हैं। 73.3% लोग सामान्य दिनों से ज्यादा इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं।
26% लोगों को शहर में रहने वालों के गांव में आने से आपत्ति 
41.5% लोगों का मानना है कि सोशल डिस्टेंसिंग से कुछ फर्क नहीं पड़ा है, जबकि 20% का कहना है कि इससे संबंध बिगड़ रहे हैं। 58.8% लोग शहर में रहने वालों के गांव में आने से आपत्ति जता रहे हैं। इसके अलावा 45.5% को सामान नहीं मिल रहा।
13% छात्र-अभिभावक पढ़ाई और परीक्षा को लेकर बहुत चिंतित हैं
13.4% छात्र पढ़ाई को लेकर बहुत चिंतित हैं। छात्रों का कहना है कि कोरोना के लगातार बढ़ रहे पॉजिटिव केस की खबरें सुनने के बाद जो पढ़ता हूं वह याद नहीं होता। 38.80% लोगों का मानना है कि कोरोना से बच्चों की पढ़ाई खराब हो गई है।
99.5% लोग परिवार के स्वास्थ्य तो 32% पान और तंबाकू न मिलने से चिंतित
42% लोग कोरोना से बहुत डरे हुए हैं, जबकि 99.5% परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य को लेकर परेशान हैं। 15.70% लोग परिवार के सदस्यों के लॉकडाउन में दूसरी जगह फंसे होने से चिंतित हैं। 16.2% प्रतिशत लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। 31.90% लोग पान-तंबाकू न मिलने से बहुत परेशान हैं। 17.3% लोगों को घर में रहना पसंद नही हैं।
99.5% मास्क पहनने लगे, 82.5% बार-बार साबुन से हाथ धो रहे 
गांवों में 99.5% लोग मास्क पहनकर ही घर से बाहर निकलते हैं। 81.2% घर की साफ-सफाई पर ध्यान दे रहे हैं। 82.8% लोग साबुन से बार-बार हाथ धो रहे हैं या तो सैनिटाइज कर रहे हैं। 75.4 प्रतिशत लोग खांसी या छींक आते समय कपड़े से मंुह-नाक ढक लेते हैं। 95.7% लोगों का मानना है कि लॉकडाउन से पर्यावरण स्वच्छ हो रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना