पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • The Police Department Was The Most Corrupt, Ranked Second Last Year, 56 Employees Jailed In A Year

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भ्रष्टाचार:पुलिस विभाग सबसे भ्रष्ट, पिछले साल दूसरे नंबर पर था, सालभर में 56 कर्मचारी जेल गए

सूरत8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • साल 2020 में सूरत डिवीजन में 40 मामलों में कुल 71 लोग गिरफ्तार किए गए
  • साल 2019 पहले नंबर पर रहने वाला कृषि विभाग इस साल चौथे स्थान पर है
  • एंटी करप्शन ब्यूरो ने पुलिस विभाग के खिलाफ सबसे अधिक केस दर्ज किया

सूरत में आय से अधिक संपत्ति के कुल 9 मामले दर्ज हुए थे

वर्ष 2020 में वर्ग-3 के सबसे अधिक 36 कर्मचारी पकड़े गए

एंटी करप्शन ब्यूराे ने साल 2020 में सबसे अधिक कार्रवाई गृह विभाग (पुलिस) के खिलाफ की है। वर्ष-2019 में भ्रष्टाचार में कृषि विभाग सबसे आगे था, जबकि पुलिस विभाग दूसरे नंबर पर था। साल 2020 में भ्रष्टाचार के 11 मामलों के साथ गृह विभाग पहले नंबर पर आ गया। सूरत डिवीजन में वर्ष 2020 में भ्रष्टाचार के कुल 40 मामले दर्ज हुए और 71 लोग पकड़े गए। वर्ष 2018 और 2019 में सूरत डिवीजन में 61-61 मामले दर्ज हुए थे।

साल 2020 में प्रदेशभर में कुल 198 केस दर्ज हुए, जिसमें से 307 आरोपी पकड़े गए। अन्य डिवीजन के मुकाबले सूरत डिवीजन में सबसे ज्यादा 56 लोगों को जेल की सजा सुनाई गई है। सूरत डिवीजन में सर्वाधिक 17 केस तो शहर में ही हुए हैं।

गिरफ्तार 71 आरोपियों में से वर्ग-3 के 36 कर्मचारी हैं। वहीं, सूरत में आय से अधिक संपत्ति के कुल 9 मामले सामने आए हैं, जिनमें 13.94 करोड़ की रकम अधिक मिली है। इतनी कड़ाई होने के बावजूद प्रदेश में भ्रष्टाचार के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कर्मचारियों में जेल जाने का भी डर नहीं है। इसमें रिश्वतखोरी के मामले सर्वाधिक हैं।

56 आरोपी जेल गए, एक आरोपी औसतन 30 दिन तक जेल में रहा

शहर आरोपी कितने दिन औसत दिन
अहमदाबाद 44 1384 32
गांधीनगर 24 700 29
बडोदरा 53 1457 27
सूरत 56 1679 30
राजकोट 44 1264 29
जूनागढ़ 18 839 47
भुज 36 1190 33
कुल 275 8513 31

वर्ग-3 के 36 कर्मचारियों पर केस
पद सूरत गुजरात
वर्ग-1 01 07
वर्ग-2 13 41
वर्ग-3 36 159
वर्ग-4 00 03

निजी व्यक्ति 21 97

द. गुजरात में सूरत डिवीजन सबसे आगे
दक्षिण गुजरात में भ्रष्टाचार के मामलों में सूरत डिवीजन सबसे आगे है। सूरत डिवीजन में 17, तापी में 7, वलसाड और नवसारी में भ्र्रष्टाचार के 6-6 मामले दर्ज हुए थे। वहीं, सूरत ग्रामीण में चार मामले आए थे।

20% मामले प्रदेशभर में सूरत डिवजीन के हैं

सूरत डिवीजन में वर्ष 2020 में गृह विभाग के खिलाफ सबसे ज्यादा 11 मामले दर्ज हुए हैं। साल-2019 में 9 मामलों के साथ गृह विभाग दूसरे और 17 मामलों के साथ कृषि विभाग पहले नंबर पर था। साल 2020 में 5 मामलों के साथ कृषि विभाग अब चौथे नंबर पर आ गया है। प्रदेशभर में भ्रष्टाचार के 20 प्रतिशत मामले सूरत डिवीजन के हैं।

24% मामले आय से अधिक संपत्ति के सूरत में

साल 2020 में आय से अधिक संपत्ति के कुल 38 मामले सामने आए। सूरत में 9 मामले पकड़े गए जो 24 प्रतिशत है। साल 2020 में प्रदेशभर में 50.11 करोड़ की आय से अधिक संपत्ति मिली, अकेले सूरत में 13.49 करोड़ की संपत्ति मिली जो 28 प्रतिशत है। ट्रैप के 40 में से अकेले सूरत में 23 केस हैं, जबकि डिमांड के 7 और एक डिकोय केस है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser