• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • The sky shone, then lightning fell on the ground, 11 people lost their lives in the state, 17 scorched

गिरती बिजली मोबाइल में कैद / भावनगर में आकाश में चमकी बिजली, फिर जमीं पर यूं गिरी; राज्य में 11 लोगों की जान गई, 17 झुलसे

भावनगर में बिजली गिरने की यह फोटो एक्रेसिल लिमिटेड के चेयरमैन चिराग पारेख ने विक्टोरिया पॉर्क में अपने मोबाइल में कैद किया।
X

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:38 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात में मंगलवार को आकाशीय बिजली गिरने की अलग-अलग घटनाओं में 11 लोगों की मौत हो गई, जबकि 17 अन्य झुलस गए। ज्यादातर हादसे सौराष्ट्र इलाके में हुए। यह फोटो भावनगर का है। यहां बिजली गिरने के पलों को एक्रेसिल लिमिटेड के चेयरमैन चिराग पारेख ने विक्टोरिया पॉर्क में मोबाइल कैमरे में कैद किया। 

राज्य में आकाशीय बिजली गिरने से द्वारका-जामनगर में 5, बोटाद में 3 और दहेगाम (गांधीनगर), जेतलपुर (अहमदाबाद), वडोदरा में 1-1 व्यक्ति की मौत हुई। जूनागढ़ के केशोद में 17 लोग झुलस गए।

क्यों गिरती है बिजली?
आकाशीय बिजली इलेक्ट्रिकल डिस्चार्ज है। ऐसा तब होता है, जब बादल में मौजूद हल्के कण ऊपर चले जाते हैं और पॉजिटिव चार्ज हो जाते हैं। भारी कण नीचे जमा होते हैं और निगेटिव चार्ज हो जाते हैं। जब पॉजिटिव और निगेटिव चार्ज अधिक हो जाता है तब उस क्षेत्र में इलेक्ट्रिक डिस्चार्ज होता है। अधिकतर बिजली बादल में बनती है और वहीं खत्म हो जाती है, लेकिन कई बार यह धरती पर भी गिरती है। आकाशीय बिजली में लाखों-अरबों वोल्ट की ऊर्जा होती है। बिजली में अत्यधिक गर्मी के चलते तेज गरज होती है। बिजली आसमान से धरती पर 3 लाख किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से गिरती है।

आकाशीय बिजली से जुड़ी आप ये खबर भी पढ़ सकते हैं...

3 लाख किमी प्रति घंटा की रफ्तार से धरती पर गिरती है बिजली; इससे बचने के 6 तरीके

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना