• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • This Time The Lowest Rainfall In Five Years Till August In Gujarat, Paddy Planting Decreased By 10 Thousand Hectares, There Is A Possibility Of 10% Loss

गुजरात में बारिश का विराम:पांच वर्षों में इस बार 24 अगस्त तक सबसे कम बारिश, धान की रोपाई 10 हजार हेक्टेयर कम हुई, 10% नुकसान की आशंका

अहमदाबाद9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
व्हाइट फ्लाई और कम बारिश से गन्ने की फसल को 30 से 40% हो सकता है नुकसान। - Dainik Bhaskar
व्हाइट फ्लाई और कम बारिश से गन्ने की फसल को 30 से 40% हो सकता है नुकसान।

इस बार गुजरात में पिछले पांच सालों में सबसे कम बारिश हुई। पिछले साल 24 अगस्त तक शहर में 1175 मिमी और जिले में 1060 मिमी बारिश हुई थी। इस साल अब तक शहर में 704 मिमी और जिले में 610 मिमी बारिश ही हुई है। वहीं, इस सीजन में पूरे अगस्त में अच्छी बारिश होने की संभावना कम है। बारिश कम होने से धान की फसल 10 हजार हेक्टेयर कम लगाई गई है। 10 फीसदी फसल के नुकसान की आशंका है। 25 जून को शहर समेत जिले में 22 घंटे में 5 इंच से अधिक बारिश हुई थी।

शहर में 1 मिमी बारिश
शहर में शनिवार को एक मिमी बारिश दर्ज की गई। जिले की बात करें तो सबसे अधिक बारडोली में 9, महुवा और मांडवी में 8-8, उमरपाड़ा में 4 और कामरेज में 3 मिमी बारिश हुई। चौर्यासी, मांगरोल, ओलपाड, पलसाणा में बारिश नहीं हुई। राज्य के दो तहसीलों लाखनी और थराद में 2 इंच से भी कम बारिश हुई है। 25 तहसीलों में 5 इंच से भी कम बारिश हुई है। केवल 4 तहसीलों में 40 इंच से अधिक बारीश हुई है।

2 दिन में 2 डिग्री लुढ़का अधिकतम तापमान
शहर में पिछले दो दिनों में अधिकतम तापमान 2 डिग्री कम हुआ है। शनिवार को अधिकतम तापमान 30.8 डिग्री, न्यूनतम तापमान 25.6 डिग्री दर्ज किया गया। अहमदाबाद में अधिकतम तापमान 33.9 डिग्री और न्यूनतम 26.2 डिग्री रहा। यानी पिछले दो-तीन दिनों के मुकाबले गर्मी का पारा कम हुआ। फिर भी शहर के लोगों ने दिन में गर्मी और असहनीय उमस का अनुभव किया। अगले तीन-चार दिनों में अहमदाबाद में धूप के बीच बौछारें पड़ने की संभावना है, लेकिन भारी बारिश के अभाव में लोगों को गर्मी-उमस का सामना करना पड़ सकता है।

गन्ने की फसल को भी 10% नुकसान हुआ
गुजरात किसान समाज के प्रमुख जयेश देलाड ने बताया कि इस साल बारिश की कमी सूरत सहित दक्षिण गुजरात के किसानों को बड़ा नुकसान हो सकता है। व्हाइट फ्लाई के कारण गन्ने की फसल खराब होने का खतरा तो है ही ऊपर से बारिश नहीं होने से परेशानी और बढ़ गई है।

दक्षिण गुजरात में गन्ने की 80 लाख टन फसल होती है। व्हाइट फ्लाई और बारिश की कमी से 10% नुकसान हुआ है। तेज बारिश नहीं हुई तो नुकसान 30 से 40% तक पहुंचेगा। 2.20 लाख हेक्टेयर में धान की फसल होती है। इस साल 10 हजार हेक्टेयर कम हुई है। बारिश कम होने से 8 से 10% का नुकसान होगा।

खबरें और भी हैं...