पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Three Zones Became Container Free, 87.62% Vaccination, 100% Vaccination In The Eighth Zone, But The Cases Coming From Here Right Now

अब चिंता नहीं सतर्कता जरूरी:तीन जोन कंटेनमेंट फ्री हुए, 87.62% का टीकाकरण, अठवें जोन में 100 फीसदी वैक्सीनेशन, पर अभी यहां से आ रहे केस

सूरत11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में पिछले 10 दिनों से कोरोना के केस बढ़ने के बाद मंगलवार को घट गए। मनपा का कहना है कि चिंता की बात नहीं है, लेकिन त्योहारों का सीजन चल रहा है, इसलिए सतर्कता जरूरी है। लोगों को कोविड गाइडलाइन का पालन करना चाहिए। इस बीच शहर के लिंबायत, वराछा-ए और वराछा-बी को पूरी तरह से कंटेनमेंट फ्री जोन घोषित कर दिया गया है। अब सेंट्रल जोन भी जल्द ही कंटेनमेंट फ्री जोन घोषित किए जा सकते हैं। लगातार 14 दिन तक एक साथ तीन या उससे अधिक मामले नहीं आने पर कंटेनमेंट फ्री जोन घोषित किया जाता है।

मनपा का दावा है कि अठवा जोन में 100 फीसदी वैक्सीनेशन हो चुका है। हालांकि मंगलवार को जो एकमात्र केस आया वह इसी जोन से आया। मनपा ने कोविड के पीक के समय जो व्यवस्था की थी उसे अभी भी जारी रखी है। रोजाना 110 से अधिक धन्वंतरी रथों से 28 हजार लोगों के स्वास्थ की जांच की रही है।

इसके अलावा कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग, क्लस्टर, सर्वे, टेस्टिंग की प्रक्रिया जारी रखने से कोविड के संपर्क में आने वाले संक्रमित लोगों तक पहुंचा जा रहा है। स्कूल शुरू होने के बाद संक्रमण की स्थिति को लेकर चिंता थी, लेकिन वहां भी पाॅजिटिव मामले देखने को नहीं मिल रहे हैं।

वैक्सीन से मिली बड़ी राहत
शहर में 35.20 लाख एलिजिबल लोगों में से 30,84,572 लोग वैक्सीन का पहला डोज ले चुके हैं। इनमें से 12 लाख 10 हजार 405 लोगों का दूसरा डोज लगवा चुके हैं। पहला डोज लेने वाले 87.62 फीसदी और दूसरा डोज लेने वाले 34.38 फीसदी लोग वैक्सीनेटेड हो चुके हैं।

नियम का पालन करें: मनपा
मनपा ने मंगलवार को शहर के लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की। मनपा ने कहा है कि 6 से 13 सितंबर तक शहर में 31 पाॅजिटिव मामले आए हैं। गणेशोत्सव के अलावा इस बीच आगामी दिनों में नवरात्रि जैसे त्योहार आ रहे हैं, इसलिए कोविड कज गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें।

स्कूलों में पहले दो से तीन केस आए थे
कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच सबसे बड़ा खतरा बच्चों के लिए जताया जा रहा था, क्योंकि उन्हें वैक्सीन नहीं लगी है। 9 जुलाई से 9वीं से 11वीं और 2 सितंबर से 6वीं से 8वीं के स्कूल शुरू किए गए। हालांकि स्कूलों में लगातार जांच जारी रखी गई। शुरुआत में कतारगाम व लिबांयत के एक-एक स्कूल में 2 से 3 मामले आए थे, लेकिन अब कोई मामला नहीं आ रहा है।

रोज किए जा रहे 10 हजार कोरोना टेस्ट
जून से ही कोरोना संक्रमण पूरी तरह अंकुश में आ चुका था, फिर भी तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए मनपा बस डिपो, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, चेकपोस्ट के साथ धन्वंतरी रथों द्वारा प्रतिदिन 10 हजार कोरोना टेस्ट कर रही है। इनमें से 5 हजार के करीब आरटीपीसीआर टेस्ट किए जा रहे हैं।

दो हफ्ते में दो जोन में ही 61% पाॅजिटिव
पिछले 2 हफ्ते में शहर में 47 केस आए। इनमें से 61% मामले रांदेर व अठवा जोन के हैं। रांदेर में 17 और अठवा में 12 केस आए। बाकी 6 जोन में 39% केस आ। शहर में 3 सितंबर को 2, 4 से 9 सितंबर तक 3-3, 10 और 11 सितंबर को 5-5, 12 और 13 सितंबर को 6- 6 पाॅजिटिव मामले दर्ज हुए।

50 फीसदी पाॅजिटिव कॉन्टेक्ट वाले ही मिल रहे
कोरोना की स्थिति सामान्य है। अभी चिंता करने की जरूरत नहीं है, लेकिन सतर्कता जरूरी है। वर्तमान में जो पाॅजिटिव मामलों सामने आ रहे हैं, उसमें से 50 फीसदी मामले मरीजों के कॉन्टेक्ट वाले लोग हैं। पाॅजिटिव लोगों की 2 से 5 दिन की ट्रैवेल हिस्ट्री हो ऐसा भी नहीं है।
- डाॅ. आशीष नायक, डिप्टी कमिश्नर, मनपा

खबरें और भी हैं...