पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आवेदकों ने रुचि नहीं दिखाई:यूनिवर्सिटी अच्छी सैलेरी देने को तैयार, फिर भी नहीं आ रहे बेरोजगार

सूरत9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वीएनएसजीयू ने विभिन्न पदों के लिए विज्ञापन जारी किए, लेकिन आवेदकों ने रुचि नहीं दिखाई

एक तरफ कोरोना महामारी के कारण रोजगार के अवसर कम हो गए। हजारों लोगों की नौकरी चली गई और दूसरी तरफ पद और भारी वेतन के बावजूद वीएनएसजीयू में कोई नौकरी नहीं करना चाहता है। कई विज्ञापन जारी किए जा चुके हैं, लेकिन आवेदन ही नहीं आते हैं। कोरोना महामारी के इस बेरोजगारी काल में ऐसी अनूठी स्थिति है, वीर नर्मद दक्षिण गुजरात यूनिवर्सिटी(वीएनएसजीयू) में। यूनिवर्सिटी लाखों रुपए के विज्ञापन जारी कर चुकी है, लेकिन पद भर नहीं पाए हैं।

बेरोजगारों को आकर्षित करने के लिए पोस्ट की क्वालिफिकेशन भी कम कर दी, फिर भी किसी ने भी रुचि नहीं दिखाई। वीएनएसजीयू को करीब दो साल से लीगल एडवाइजर, पब्लिक रिलेशन ऑफिसर, सिक्योरिटी गार्ड, स्पोर्ट्स टीचर और अन्य पदों पर कार्मिकों की जरूरत है। यूनिवर्सिटी ने भर्ती विज्ञापन जारी किया तो केवल सिक्योरिटी गार्ड के लिए आवेदन प्राप्त हुए और वे भी बहुत कम। 25 आवेदकों को फाइनल करके नियुक्ति दे दी गई। नवनियुक्त गार्डों में से 80 प्रतिशत नौकरी छोड़कर चले गए। रिक्त पदों के कारण यूनिवर्सिटी का दैनिक का काम प्रभावित हो रहा है।

अनुभव-शिक्षा घटाई :

आवेदन नहीं मिलने पर यूनिवर्सिटी ने योग्यता के मापदंड घटा दिए। अनुभव पांच वर्ष और शिक्षा एलएलबी कर दी। सिक्योरिटी गार्ड की योग्यता भी 9वीं पास कर दी गई। पीआरओ पद के लिए एमबीए(एचआर) की शर्त हटा ली गई। इसके बाद भी यूनिवर्सिटी को कार्मिक नहीं मिले। योग्य व्यक्ति नहीं मिलने के कारण एनएसएस कोऑर्डिनेटर का पद ही निरस्त कर दिया।

इसलिए आवेदन नहीं आ रहे

  • सभी पद स्थायी की बजाय कॉन्ट्रेक्चुअल है।
  • हर साल कॉन्ट्रेक्ट रिन्यू होता है। इसलिए जॉब सिक्योरिटी नहीं है।
  • अनुभव ज्यादा मांगा गया था।
  • शैक्षिक योग्यता ज्यादा थी।
  • यूनिवर्सिटी के सिक्योरिटी गार्ड दो जगह काम नहीं कर सकते। अन्य जगहों पर गार्ड दिन और रात में अलग-अलग जगह पर काम करके 16-17 हजार रुपए कमा लेते हैं।

एक्सपर्ट की राय के बाद सुधार :

भर्ती आवेदन नहीं आने का कारण जानने के लिए यूनिवर्सिटी ने एक्सपर्ट की राय ली तो सामने आया कि अनुभव एवं योग्यता के उच्च मापदंड के कारण बेरोजगार रुचि नहीं दिखाते। इस पर यूनिवर्सिटी ने अनुभव और योग्यता का दायरा कम कर दिया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। सभी पद अभी भी खाली हैं।

पीआरओ, पद-1: वेतन 40 हजार

पब्लिक रिलेशन ऑफिसर की भर्ती का विज्ञापन जारी किया गया, लेकिन किसी ने भी आवेदन नहीं किया। यूनिवर्सिटी ने पीआरओ के लिए एमबीए(एचआर) या पीजी (जर्नलिज्म) और 10 साल का अनुभव मांगा था। जब कोई आवेदन नहीं आया तो योग्यता में बदलाव कर दोबारा विज्ञापन जारी किए। फिर भी कोई नहीं आया।

लीगल एडवाइजर, पद-1: वेतन 45 हजार

यूनिवर्सिटी ने 2019 में लीगल एडवाइजर की भर्ती वर्ष 2020 में एक पद के लिए आवेदन मांगे थे। इस पद की योग्यता एलएलएम फर्स्ट क्लास एवं 10 वर्ष का वकालत अनुभव निर्धारित की। किसी ने भी आवेदन नहीं किया। यूनिवर्सिटी को पद की योग्यता कम करनी पड़ी। अब दोबार विज्ञापन मांगा गया है।

पीटीआई (स्पोर्ट्स टीचर), पद-5: वेतन 40 हजार

यूनिवर्सिटी ने तय किया कि पांच पीटीआई भर्ती की जाए। ताकि छात्रों को फिजिकल एक्सरसाइज एवं खेलों की ट्रेनिंग दी जा सके। विज्ञापन भी जारी कर दिया गया। 40 हजार वेतन होने पर भी किसी ने भी पीटीआई के लिए आवेदन नहीं किया। यूनिवर्सिटी ने अब नए सिरे से भर्ती की योग्यता निर्धारित करने का निर्णय लिया है।
सिक्युरिटी गार्ड, पद-1: वेतन 13 हजार

यूनिवर्सिटी की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 51 सिक्योरिटी गार्ड की भर्ती का विज्ञापन जारी किया गया। योग्यता 12वीं पास। केवल 25 लोगों ने आवेदन किया, जिनका सलेक्शन कर लिया गया। लेकिन बाद में 20 सुरक्षाकर्मी बीच में ही काम छोड़ कर चले गए और अब नए सुरक्षा कर्मियों की भर्ती करने की प्रक्रिया की जा रही है।

यूनिवर्सिटी ने सख्त आदेश दिया तो प्रिंसिपल नियुक्त किया

नवयुग कॉलेज में आर्ट्स विभाग के प्रिंसिपल पद खाली है। यूनिवर्सिटी ने कॉलेज प्रशासन को प्रिंसिपल नियुक्त करने के निर्देश दिए, लेकिन वहां कोई शिक्षक प्रिंसिपल नहीं बनना चाहता है। बार-बार पत्र लिखने के बाद भी कार्रवाई नहीं हुई तो यूनिवर्सिटी ने सीधे आदेश जारी कर दिया है कि जो भी सबसे सीनियर प्रोफेसर है, उसको प्रिंसिपल बना दिया जाए और आदेश की पालना रिपोर्ट भेजी जाए।

बड़ी क्वालिफिकेशन और अनुभव की शर्त के कारण भर्ती के आवेदन नहीं आए। अब यूनिवर्सिटी ने योग्यता मापदंड में बदलाव करते हुए नई भर्ती की प्रक्रिया शुरू की गई है। उम्मीद है, अब आवेदन प्राप्त होंगे।

-नरेंद्र पटेल, डिप्टी रजिस्ट्रार

खबरें और भी हैं...