पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Vigilance Team Raided The City And Caught Goods Worth Lakhs, But Till Now No Action Has Been Taken Against Anyone, While The Rural PI Has Been Suspended.

इतनी मेहरबानी क्यों:विजिलेंस टीम ने शहर में छापा मार लाखों का माल पकड़ा पर अब तक किसी पर कार्रवाई नहीं, वहीं ग्रामीण पीआई को सस्पेंड कर दिया

सूरत10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जनवरी 2021 से अब तक 6 जगहों पर छापा पड़ चुका है

सूरत। स्टेट विजिलेंस की टीम शहर में रेड करने के बाद कडोदरा पुलिस इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया। लेकिन दूसरी तरफ शहर में पिछले छह महीने में ऐसे 6 मामले सामने आ चुके है, जिनमें विजिलेंस की रेड के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। नियमों के मुताबिक शराब और जुए के मामले जो 25 हजार रुपए के ऊपर होते हैं उन्हें क्वालिटी केस कहा जाता है। शहर के बीते छह महीनों में जिन छह मामलों में विजिलेंस रेड किया है। वो सभी मामले 25 हजार रुपए के ऊपर के है, लेकिन फिर भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

सूत्रों का कहना है कि स्टेट विजलेंस की टीम ने ग्रामीण क्षेत्र में रेड मारने के बाद कार्रवाई में जो तेजी दिखाती है, वहीं तेजी वह शहर में किए गए रेड के मामलों में क्यों नहीं दिखाती है। बीते छह महीने में शहर में प्रोहिबिशन के 9200 से ज्यादा मामले पुलिस द्वारा दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा जुए के 340 से ज्यादा केस पुलिस ने दर्ज किए हैं। लेकिन फिर भी विजिलेंस की टीम को आकर सूरत में रेड करना पड़ता है।

जानकारी के मुताबिक इस मामले की रेड करने के बाद विजिलेंस की टीम सीधे डीजीपी को देती है। इसके बाद ग्रामीण के आईजी और शहर के पुलिस आयुक्त के दिशा निर्देश में जांच सौंपी जाती है। ज्ञातव्य हो कि कडोदरा में 11 मई को 24 लाख रुपए की शराब पकड़ी गई थी। इस मामले में विजिलेंस ने रेड की थी और ग्रामीण पीआई को सस्पेंड कर दिया था।

अब तक इन मामलों में नहीं हुई कार्रवाई

1. 28 फरवरी को अमरोली में चल रहे जुए के अड्डे पर रेड मारकर 13 लोगों को गिरफ्तार किया था, 1.23 लाख रु. का माल जब्त किया था 2. 18 मार्च को कापोद्रा के एक जुए के अड्डे पर रेड कर 12 लोगों को गिरफ्तार किया था, 2.46 लाख रु. का माल जब्त किया था 3. 19 मार्च को वराछा के शराब के अड्डे पर रेड कर दो नाबालिग सहित 3 लोगों को पकड़ा था, 2.22 लाख रु. का माल जब्त किया था 4. 25 मार्च को लालगेट में जुए के अड्डे पर रेड कर 22 लोगों को गिरफ्तार किया था, 1.04 लाख रु. का माल जब्त किया था 5. 2 मई को पांडेसरा में शराब के अड्डे पर रेड कर 11 लाेगों को गिरफ्तार किया था, 3.34 लाख रु. का माल जब्त किया था 6. 3 जून को महिधरपुरा में जुए के अड्डे पर रेड कर 9 लोगों को पकड़ा था, 69 हजार रु. का माल जब्त किया था।

स्टेट विजिलेंस की टीम कार्रवाई कर सीधे डीजीपी को देती है अपनी रिपोर्ट
डीजीपी के अंडर में स्टेट विजिलेंस की टीम काम करती है। इसे स्टेट मॉनीटरिंग सेल भी कहा जाता है। राज्यभर में शराब के अड्डे और जुए खाने चलाने पर प्रतिबंध है। लेकिन फिर भी कई पुलिस स्टेशन के क्षेत्रों में बहुत से जुए के अड्डे चलते हैं।, शराब धड़ल्ले से बिकती है। ऐसे मामलों में पुलिस की मिलीभगत के साथ उस इलाके में हो रहे ऐसे गोरखधंधों की जानकारी मिलने के बाद विजिलेंस रेड करती है। अपनी रिपोर्ट सीधे डीजीपी को सौंपती है।

शहर में 9000 से ज्यादा प्रोहिबिशन के मामले

अब तक इस साल शहर में 11235 प्रोहिबिशन के मामले दर्ज किये गए हैं। जो पिछली साल 19281 थे। इसके अलावा जुए खेलते हुए पकड़े जाने के अब तक 376 मामले हैं, जो पिछली साल 734 थे। हालांकि इतने मामले पकड़े जाने के बाद भी स्टेट विजिलेंस को शहर में रेड करना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...