AAP में शामिल नहीं होंगे विपुल चौधरी:अब बीजेपी के साथ ही रहने का फैसला, अमित शाह ने एक ही बैठक में चौधरी को मना लिया

अहमदाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर गुजरात की दूधसागर डेयरी के संस्थापक और उत्तर गुजरात के चौधरी समाज के नेता विपुल चौधरी के पिता मानसिंह पटेल के जन्मदिन पर चराडा में मंगलवार को आयोजित सभा में राजनीतिक जोड़-तोड़ की बातें बेकार साबित हुईं। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को रात में चौधरी समाज और अर्बुदा सेना के अग्रणियों से मिलकर बड़े ऑपरेशन को पूरा कर लिया। समझौते के अनुसार विपुल चौधरी अब भाजपा के साथ रहेंगे।

AAP में शामिल होने का ऐलान किया था
चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर विपुल चौधरी आम आदमी पार्टी में शामिल होने का ऐलान कर दिया था। हालांकि, फिलहाल वह जेल में बंद हैं, मगर यह संदेश जेल से ही समर्थकों के जरिए भाजपा हाईकमान को बता दी गई थी। इसके बाद अमित शाह विपुल चौधरी मामले में एक्टिव मोड में आए। बैठकों का दौर शुरू हुआ और कुछ ही घंटों में रिजल्ट आया कि विपुल अब कहीं नहीं जाएंगे, भाजपा के साथ बने रहेंगे।

800 करोड़ के तथाकथित घोटाले मामले में फिलहाल जेल में बंद हैं विपुल चौधरी।
800 करोड़ के तथाकथित घोटाले मामले में फिलहाल जेल में बंद हैं विपुल चौधरी।

21 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में होनी है सुनवाई
विपुल चौधरी दूधसागर डेयरी में 800 करोड़ के तथाकथित घोटाले मामले में फिलहाल जेल में बंद हैं। करप्शन के छीटें उनकी पत्नी और बेटे पर भी पड़े हैं। आगामी 21 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में इसी मामले की सुनवाई होनी है। वहीं, विपुल चौधरी की गिरफ्तारी से चौधरी समाज में खासी नाराजगी है। पिछले कई दिनों से समाज की अर्बुदा सेना गुजरात सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। सूत्रों की मानें तो अब घोटाले की रकम घटकर केवल 6 करोड़ रुपए हो गई है।

विसनगर में निर्णायक होता है चौधरी समाज
पाटीदार उम्मीदवार आमतौर पर विसनगर में जीतते रहे हैं। यहां ठाकोर के साथ चौधरी समाज के वोट भी निर्णायक रहते हैं। चुनाव में ठाकोर और चौधरी वोटों पर हावी होने वाले उम्मीदवार के जीतने की संभावना बढ़ जाती है। 1995 से 2017 तक भाजपा ने विसनगर सीट जीती है। 1995 में किरीट पटेल विधायक बने। 1998 और 2002 में प्रहलाद पटेल विधायक बने। 2007, 2012, 2017 में स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल विजेता बने। इस बार भी यहां से ऋषिकेश पटेल को रिपीट किया गया है।

दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी।
दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी।

1 और 5 दिसंबर को होगा मतदान
राज्य में पहले चरण की वोटिंग 1 दिसंबर को होगी, जबकि दूसरे चरण की वोटिंग 5 दिसंबर को होगी। वहीं, दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी। पहले चरण की वोटिंग प्रक्रिया के लिए गजट नोटिफिकेशन 5 नवंबर को और दूसरे चरण की वोटिंग प्रक्रिया के लिए 10 नवंबर को जारी हुआ था। स्क्रूटनी पहले चरण के लिए 15 नवंबर को होगी, जबकि दूसरे चरण के लिए 18 नवंबर की तारीख तय है। नाम वापसी की अंतिम तारीख पहले चरण के लिए 17 नवंबर और दूसरे चरण के लिए 21 नवंबर निर्धारित की गई है।