लॉकडाउन / मध्य प्रदेश के श्रमिक फंसे घर जाने का कोई साधन नहीं

X

  • केवल लग्जरी बस और कारों को ही मिल रही मंजूरी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सूरत. लॉकडाउन में सूरत फंसे मध्य प्रदेश के श्रमिकों की हालत सबसे ज्यादा खराब है। इनके घर वापसी का कोई साधन नहीं है। सरकार द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है। ट्रेन और सरकारी बसें बंद हैं। लग्जरी बसों को जाने की मंजूरी मिल रही है, पर उसे एक बार जाने के लिए 30 यात्री चाहिए। मध्य प्रदेश के श्रमिक संगठित नहीं हो रहे हैं इसलिए सरकार भी कोई व्यवस्था नहीं कर रही है। गोविंदा मध्य प्रदेश से सूरत में कमाने आया था। पिछले पांच साल से दिहाड़ी मजदूरी करता है।

लॉकडाउन में गोविंदा के पास खाने के लिए एक दाना भी नहीं है। एलपी सवाणी के पास सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करने वाले हीराभाई गोविंदा की मदद कर रहे हैं। सामाजिक कार्यकर्ता पंकजभाई सोनी ने बताया कि हमारे पास 200 श्रमिक आए थे। मध्य प्रदेश जाने के लिए सरकार के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। लग्जरी बसों को कारों को जाने की मंजूरी दी जा रही है, पर जिनके पास पैसे नहीं हैं वे अपने गांव नहीं जा पा रहे हैं। मजदूरों की बात सुनने वाला भी कोई नहीं है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना