बाढ़ का खतरा:तापी में फिर बढ़ने लगा जलस्तर, रेवा नगर के 10 मकानों के 45 लोगोें को शिफ्ट किया

सूरत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उकाई के 12 गेट खोले गए, अभी पानी की आवक और जावक 1.81 लाख क्यूसेक। - Dainik Bhaskar
उकाई के 12 गेट खोले गए, अभी पानी की आवक और जावक 1.81 लाख क्यूसेक।

एक बार फिर उकाई में पानी की आवक बढ़ने से तापी नदी का जल स्तर बढ़ने लगा है। इसके कारण अडाजण स्थित रेवा नगर झोपड़पट्टी में पानी भरने लगा। इसके बाद फायर ब्रिगेड ने यहां स्थित 10 मकानों में से 45 लोगों को शाला नम्बर 88 में स्थानांतरित कर दिया गया। हालांकि शाम 7 बजे पानी कम होने लगा। बता दें कि जुलाई के 18 दिनों में उकाई का जलस्तर 333 के रूल लेवल के पार हो गया था।

जुलाई के तीसरे सप्ताह में तापी नदी दोनों किनारों से बहने लगी थी। इसके बाद करीब 4 सप्ताह बारिश नहीं हाेने से यहां के लाेगाें काे बड़ी राहत मिली थी। लेकिन अब उकाई डैम में लगातार पानी का आवक हाेने से तापी का जल स्तर बढ़ने लगा है। इससे यहां के इलाकों में जलभराव भी हाेने लगा है।

कादरशा की नाल और रेवा नगर में पानी भर गया है। इन जगहों पर बाढ़ के खतरे काे देखते हुए फायर ब्रिगेड की टीम काे स्टैंडबाय रखा गया है। काॅजवे का जल स्तर गुरुवार शाम 7 बजे 9.31 मीटर दर्ज किया गया। काॅजवे का खतरे का निशान 6 मीटर है। वर्तमान में खतरे के निशान से 3 मीटर ऊपर पानी बह रहा है।

काॅजवे का जलस्तर खतरे का निशान 6 मीटर से बढ़कर 9.31 मीटर पर पहुंचा

रूल लेवल मेंटेन किया जा रहा

उकाई का जलस्तर गुरुवार शाम 7 बजे 334.50 फीट, रूल लेवल 335 फीट था। वहीं पानी की आवक और जावक 1 लाख 81 हजार 548 क्यूसेक दर्ज किया गया। उकाई के 12 गेट 9 फीट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है। 335 फीट के रूल लेवल को मेंटेन करने के लिए पानी छोड़ा जा रहा है। वहीं हनुमान टेकरी, पाल, डभोली, वरियाव, मक्कईपुल समेत 9 फ्लड गेट बंद कर दिए गए हैं। आगामी दिनों में मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी है।

अधिकतम तापमान एक डिग्री लुढ़का

मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक तेज बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार की तुलना में गुरुवार को अधिकतम तापमान एक डिग्री कम होकर 29.2 डिग्री और न्यूनतम तापमान 25.9 डिग्री रहा। साउथ वेस्ट से पवन की गति 18 किलोमीटर प्रतिघंटा दर्ज की गई।

9 फ्लड गेट क्लोज किए गए

सेंट्रल जोन के 2, कतारगाम के 5 और रांदेर जोन के 2 फ्लड गेट बंद किए गए हैं। इसी कारण रांदेर और सेंट्रल जोन में झोपड़ियाें और कच्चे मकानों के साथ सड़कों पर भी जलभराव की स्थिति है। विशेष तौर पर कादरशा की नाल और रेवा नगर में पानी भर गया है।

अभी खाड़ी का स्तर सामान्य

अभी शहर की खाड़ी के लेवल सामान्य हैं। काकरा खाड़ी 4.50 मीटर, भेदवाड खाड़ी 5.50, मीठी खाड़ी 6.90 मी., भाठेना 5 व सीमाडा खाड़ी 3.20 मी. है।

फायर ब्रिगेड की टीम स्टैंडबाय

अडाजण स्थित रेवा नगर के 10 मकानों के लोगों को स्थानांतरित किया गया था। वर्तमान में 150 कर्मियों के साथ 18 लाेगाें की टीम को स्टैंडबाय रखा गया है। इसमें रेस्क्यू समेत पूरी टीम शामिल है।- बसंत पारिक, चीफ फायर ऑफिसर

खबरें और भी हैं...