गुहला-चीका में डीएपी लेने में आ रही परेशानी:डीएपी के साथ सुपर का थैला देने के विरोध में किसानों ने किया प्रदर्शन

गुहला-चीका18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गुहला के किसानों ने फर्टिलाइजर दुकानदारों पर डीएपी खाद के साथ सुपर का थैला लेने को मजबूर करने का आरोप लगाया है। आरोप है क दुकानदार डीएपी के बैग पर प्रिंट रेट से अधिक दाम भी वसूल रहे हैं। इसके विरोध में किसानों ने उपमंडल कृषि अधिकारी चीका कार्यालय में सरकार व कृषि विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया। किसान भाकियू प्रदेश उपाध्यक्ष सुभाष पूनिया, युवा हलका प्रधान गुरदेव बदसूई, हरदीप बदसूई, अंग्रेज नंदगढ़, गुरपाल गगड़पुर, पाला भागल, रतन भागल, केवल सदरेहड़ी, पवन, रामपाल, गुरनाम चीका, सुभाष भागल, शीशपाल दुसेरपुर, बादल, गुरमीत बदसूई, दिलबाग सिंह, रामभूल कसौर, रामदिया बलबेहड़ा ने कहा कि अब किसानों को सरसों व गेहूं की बिजाई करनी है। किसानों को डीएपी खाद की जरूरत है, लेकिन एक तरफ तो उन्हें महंगे भावों में डीएपी खाद लेना पड़ रहा। दूसरा एक सुपर खाद का थैला लेने का दबाव बनाया जा रहा है। किसानों ने कहा कि इस संबंध में कृषि विभाग कार्यालय में लिखित शिकायत कर दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। उन्होंने कहा कि उपमंडल के गांव खरकां से भी कुछ किसानों की शिकायतें है कि डीएपी खाद का थैला 1200 रुपए की बजाए 1450 रुपए में दिया जा रहा है। किसानों ने सरकार व प्रशासन से मांग की है कि ऐसे खाद्य विक्रेताओं पर शिकंजा कसे अन्यथा किसान कृषि कार्यालय को ताला जड़कर सड़क जाम करेंगे। एसडीओ विनोद वर्मा ने कहा कि मेरे पास ऐसी किसी भी किसान की कोई शिकायत नहीं आई। शिकायत आने पर हर मामले की जांच की जाएगी। खाद विक्रेता डीएपी खाद के साथ सुपर खाद का थैला देना लाजमी नहीं कर सकता। बाजार में डीएपी खाद की काफी कमी है। लेकिन फिर भी हमारी कोशिश है कि किसानों को सरकारी समर्थन मूल्य पर खाद उपलब्ध करवाया जाए। रही बात खरकां में खाद 1450 रुपए में बिकने की वह डीएपी एनपीके का है जिसका सरकारी समर्थन मूल्य 1450 रुपए ही है। डीडीए डॉ. कर्मचंद ने बताया कि से बात की गई तो उन्होंने कहा कि डीएपी खाद की कोई कमी नहीं है, क्योंकि सुपर खाद में भी डीएपी खाद का अंश होता है, इसलिए सरसों की फसल बिजाई में सुपर खाद किसान के लिए काफी लाभदायक है। इससे सरसों में तेल की मात्रा और गुणवत्ता बढ़ेगी। रही बात डीएपी खाद की फिलहाल कोई खास जरूरत नहीं है। गेहूं की बिजाई 25 अक्तूबर के आसपास होगी। लेकिन अगले सप्ताह तक किसानों को डीएपी खाद भरपूर मात्रा में सरकारी सोसायटियों व समितियों में ही मिलेगा।

खबरें और भी हैं...