पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नप ने शुरू किया अभियान:100 बेसहारा गोवंश को पकड़कर नंदी गोशाला में छोड़ा जाएगा

कैथल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवंबर में भी शुरू हुआ था, लेकिन नंदी गाेशाला में जगह न होने से रोक दिया गया था

शनिवार को नगर परिषद ने सड़काें पर बेसहारा घूम रहे गाेवंश को पकड़ने का अभियान शुरू किया। पहले दिन करनाल रोड बाइपास और ढांड रोड से गाेवंश को पकड़ा गया। इसके लिए एडीसी ने आदेश दिए हैं। अभियान के दौरान 100 नंदी व गायों को पकड़ा जाएगा जिन्हें कपिस्थल नंदी गाेशाला में छोड़ा जाएगा।

इसके लिए गाेशाला प्रबंधन समिति से बातचीत हो चुकी है। प्रबंधन समिति इस बात के लिए राजी है। इससे पहले करीब तीन महीने पहले छह नवंबर 2020 को अभियान शुरू किया गया था। उस समय 200 नंदी पकड़ने की तैयारी थी लेकिन दो दिन बाद ही अभियान को झटका लगा। गाेशाला प्रबंधन समिति ने जगह न होने का हवाला देते हुए गाेवंश को लेने से मना कर दिया था जिसके बाद अभियान बंद करना पड़ा था। अब फिर से अभियान शुरू किया गया है।

एक अनुमान के अनुसार शहर में करीब एक हजार के आसपास गाेवंश सड़काें पर बेसहारा घूम रहा है। गाेवंश के कारण हर रोज हादसे हो रहे हैं जिससे शहरवासी परेशान हैं।

हर रोज होती हैं दुर्घटना, कई हो चुकी हैं मौतें

शहर में करीब एक हजार गाेवंश सड़काें पर पर है जिनसे हर रोज एक या दो दुर्घटनाएं होती हैं जिसमें गाेवंश और मानव दोनों की मौत हो रही हैं। अगस्त और सितंबर माह 2020 की बात करें तो सीवन के युवक कमलजीत (20) की मौत गाेवंश से टकराने से हुई थी। इससे पहले दो और हादसों में एक पुरुष व महिला की मौत हो चुकी है।

एक साल पहले अम्बाला रोड पर एक गाय से टकराने पर फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी बाइक सवार युवक, खुराना रोड पर नौच के एक युवक, प्यौदा रोड पर बाइक सवार युवक, गांव डीग निवासी व्यक्ति की गाय की टक्कर से मौत हो गई थी। इसके अलावा काफी लोग घायल हुए हैं। आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार कैथल जिले में दो साल में 23 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा हर रोज आठ से दस गाय या नंदी घायल हो रहे हैं और तीन से चार गाेवंश की मौत भी हो रही है।

100 गाेवंश को आश्रय देगी गोशाला: प्रधान

कपिस्थल नंदी गाेशाला के प्रधान रामलाल व संरक्षक सुरेश ने बताया कि उनके पास अब शेड तैयार है जिसके चलते उन्होंने 100 गाेवंश को गाेशाला में आश्रय देने का निर्णय लिया है। इसके लिए कुछ दिन पहले ही एडीसी के साथ बैठक में विचार-विमर्श हुआ था। उन्होंने बताया कि गाेशाला में अब जगह और चारे की कोई कमी नहीं है।

एडीसी के आदेश पर सड़काें पर बेसहारा घूम रहे गाेवंश को पकड़ कर कपिस्थल नंदी गाेशाला में छोड़ा जाएगा। अभी 100 गाेवंश को पकड़ा जाएगा। इसके बाद गाेशाला प्रबंधन से बातचीत करके आगे का निर्णय लिया जाएगा।
बलबीर सिंह, कार्यकारी अधिकारी, नगर परिषद, कैथल

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें