पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आउटर में बसी कॉलोनियों पर प्रशासन की नजर नहीं:10 हजार की संख्या वाले वार्ड-12 में 150 गलियां कच्ची

कैथलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इतनी गलियां कच्ची होने पर भी नगर परिषद अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान, लोग परेशान

शहर के आउटर में बसी कॉलोनियों पर प्रशासन आज भी कम ध्यान दे रहा है जिस कारण यहां विकास थम सा गया है।

बात वार्ड 12 की करें तो यह वार्ड वैध और अवैध दो भागों में बंटा हुआ है। अवैध में तो सरकार ने वैसे ही विकास पर रोक लगाई हुई है लेकिन नगर परिषद प्रशासन ने वैध वार्ड में भी ज्यादा कुछ किया नहीं है जिस कारण आज भी यहां पर करीब 150 गलियां कच्ची हैं जिसका खामियाजा यहां बसने वाले लोगों को उठाना पड़ रहा है।

वार्ड में करीब 10 हजार की जनसंख्या है। कच्ची गलियों से उड़ती धूल से हर कोई परेशान है लेकिन बरसाती समय में तो जीवन और भी कठिन हो जाता है। लोगों को अपने घरों तक पहुंचने के लिए भी कीचड़ से गुजरना पड़ता है।

हर रोज आने-जाने के लिए कठिन डगर पर चलना पड़ता है। वार्ड वासी बलजीत रंगा, रमेश कुमार और प्रदीप ने बताया कि उनके वार्ड में कहीं विकास गुम सा हो गया है। नगर परिषद के अधिकारियों को बार-बार लिखित और मौखिक रूप से सूचित करने के बाद भी कच्ची गलियों को पक्का नहीं किया जा रहा है।
पार्षद के अनुसार वैध एरिया में कच्ची गलियां

अंबेडकर, हरसोला बस्ती और क्योड़क बस्ती में करीब 10 गलियां कच्ची हैं। यहां करीब दो हजार लोगों की आबादी है। मायापुरी कॉलोनी में 20 गलियां कच्ची हैं, यहां भी दो हजार की जनसंख्या निवास करती है। जनकपुरी कॉलोनी में करीब 50 गलियां कच्ची हैं। इस एरिया में तीन हजार लोग रहते हैं। सरकार ने जिसे अवैध एरिया माना| पार्षद ने शशि किरण ने बताया कि शुगर मिल कॉलोनी, कपिल नगर, रणधीर कॉलोनी, जनकपुरी बैक साइड एरिया, ऑक्सफोर्ड स्कूल एरिया में करीब 70 गलियां कच्ची हैं। सरकार ने इस एरिया को अवैध बताया है जिस कारण यहां पर कोई विकास कार्य नहीं हो रहा है।

उन्होंने बताया कि इस एरिया में करीब तीन हजार लोग निवास करते हैं। इसके बाद भी नगर परिषद प्रशासन इस और ध्यान नहीं दे रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की जिम्मेदारी है कि लोगों को मूलभूत जरूरतें जैसे सड़क, पानी, लाइट, सफाई की सुविधा मिलनी चाहिए।

नगर परिषद प्रशासन अवैध में तो क्या वैध में भी विकास कार्य नहीं करवा पा रही है। वार्ड में 150 से अधिक गलियां आज भी कच्ची हैं। नगर परिषद को आउटर कॉलोनियों पर अधिक देना चाहिए। यहां विकास की अधिक जरूरत है।
शशि किरण, पार्षद वार्ड 12

पार्षदों के माध्यम से गलियों के निर्माण व अन्य कामों की डिमांड आती है। उसके बाद ही टेंडर लगाए जाते हैं। वैध एरिया में जरूर सड़काें का निर्माण हो सकेगा। इस बारे में वे जेई को मौके पर भेज कर स्थिति पता लगाएंगे।
हिमांशु लाटका, एक्सईएन नगर परिषद

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें