पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कागजों में सिमटा ई-ऑफिस प्रोजेक्ट:38 में से 26 विभाग नहीं चला रहे ई-ऑफिस पोर्टल, सभी विभागाध्यक्षों को नोटिस जारी

कैथल3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैथल | सीटीएम की मेज पर पड़ी फाइलें। - Dainik Bhaskar
कैथल | सीटीएम की मेज पर पड़ी फाइलें।
  • 10 माह पहले सितंबर में की गई थी ई-ऑफिस की शुरुआत

सरकारी कामों में तेजी लाने और फाइलों के ढेर से मुक्ति के लिए 10 माह पहले शुरू किया गया ई-ऑफिस प्रोजेक्ट ग्राउंड लेवल पर सिरे नहीं चढ़ पा रहा है। पिछले 10 माह से यह प्रोजेक्ट कागजों में ही सिमटा है। पहले 2020 में 25 दिसंबर काे सुशासन दिवस पर सभी विभागों काे ई-ऑफिस के माध्यम से ही काम करना था। लेकिन अब भी 38 में 26 विभाग इसका इस्तेमाल ही नहीं कर रहे हैं या बहुत कम कर रहे हैं।

इन विभागों का स्कोर 0 से 5 तक है। स्कोर कम होने पर एक बार फिर सीटीएम ने सभी विभागों को पत्र जारी कर ई-ऑफिस के जरिए ही कामकाज करने के आदेश दिए गए। लेकिन पिछले एक साल में ऐसे आदेश कई बार दिए गए हैं। अब ताजा आदेश कितने लागू होंगे और कब तक होंगे यह आने वाले दिनों पत चल जाएगा।

सभी विभागों में लगे हैं फाइलों के ढेर- ई-ऑफिस प्रोजेक्ट के लांच करने के 10 माह बाद भी सभी विभागों में कमरे फाइलों से भरे पड़े हैं। कई विभागों में तो फाइल रखने तक के लिए जगह नहीं बची है और फाइलें कमरों या बाहर बरामदों में ढेर के रूप में पड़ी हैं। यहां तक कि अधिकारियों की मेज पर भी फाइलें ही रखी मिलती हैं।

एसपी व एडीसी ऑफिस समेत इन्हें जारी किया गया था पत्र
एसपी ऑफिस, एडीसी ऑफिस, एसडीएम ऑफिस, कैथल, कलायत व गुहला, जन स्वास्थ्य विभाग, बिजली निगम, डीआरओ, जिला सूचना अधिकारी, जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी, श्रम आयुक्त, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला नगर योजनाकार, जिला समाज कल्याण अधिकारी, समाज कल्याण अधिकारी, उप आबकारी एवं कराधान अधिकारी, डीएफएससी, जिला खेल अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, कृषि विभाग, पीडब्ल्यूडी, सिंचाई विभाग, सिविल सर्जन, जिला वन अधिकारी, जिला औषधि नियंत्रक अधिकारी, प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड, बीडीपीओ कार्यालय कैथल, गुहला, कलायत, राजौंद, पूडरी, ढांड, सीवन शामिल हैं।

ये है ई-ऑफिस पोर्टल
ई-ऑफिस एक पोर्टल है जो गवर्नमेंट का प्रोजेक्ट है। कई राज्यों के साथ यह हरियाणा में भी लांच किया गया है। इसका उद्देश्य सभी तरह की फाइलों का डिजिटली मूवमेंट है। पोर्टल पर क्लर्क से लेकर उच्चाधिकारियों की लॉग इन आईडी बनी हैं। लॉगइन करने के बाद इसमें टाइपिंग के साथ डिजिटली फाइल अटैच भी की जा सकती है।

5 विभाग कर रहे इस्तेमाल
5 विभाग ही इस्तेमाल कर रहे हैं। इनमें डीसी ऑफिस, डीडीपीओ ऑफिस, मत्स्य पालन विभाग, उद्योग केंद्र व आयुष विभाग शामिल हैं।

सभी विभागों को ई-ऑफिस से जोड़ा जा चुका है। सीटीएम के पत्र जारी करने के बाद भी सुधार हुआ है। पहले स्टेट में कैथल की 14वीं रैंक थी जो अब 9 पर आ गई है। आने वाले दिनों में इसमें और सुधार होने की उम्मीद है। -पांखुड़ी गुप्ता, मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी, कैथल।

सभी विभागाध्यक्षों को ई-ऑफिस के जरिए ही काम करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। जल्द ही दोबारा ट्रेनिंग करवाई जाएगी।-अमित कुमार, सीटीएम, कैथल।

खबरें और भी हैं...