पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एचसीएस भर्ती परीक्षा:34 केंद्रों पर 9980 में से 5500 ने दी परीक्षा, जैमरों से आसपास की कॉलोनियों में भी बाधित रहा मोबाइल नेटवर्क

कैथल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैथल| पेपर खत्म होने के बाद सेंटर से बाहर आते परीक्षार्थी। - Dainik Bhaskar
कैथल| पेपर खत्म होने के बाद सेंटर से बाहर आते परीक्षार्थी।
  • दूसरे जिलों से आए परीक्षार्थियों के कारण होटल रहे फुल, नकल रोकने के लिए डीसी व एसपी ने किया सेंटरों का दौरा

हरियाणा लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित एचसीएस की लिखित भर्ती परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हो गई है। जिले में बनाए 34 परीक्षा केंद्रों पर दो चरणों में परीक्षा आयोजित हुई। पुलिस भर्ती परीक्षा के लीक होने का असर एचसीएस भर्ती परीक्षा पर भी देखने का मिला। इस बार परीक्षा को नकल रहित व शांतिपूर्ण करवाने के लिए प्रशासन ज्यादा सतर्क रहा। शहर के कोचिंग सेंटरों पर प्रशासन की विशेष नजर रही, वहीं दूसरी तरफ सभी सेंटरों में मोबाइल जैमर लगाए गए। मोबाइल के माध्यम से होने वाली नकल रोकने रोकने के लिए लगाए जैमरों का असर परीक्षा केंद्रों के बाहर व आसपास की कॉलोनियों में भी रहा।

सुबह जीके, दोपहर बाद हिंदी व अंग्रेजी की परीक्षा
परीक्षा दो सत्रों में आयोजित हुई। सुबह के सत्र में 10 से 12 व दोपहर बाद 3 से शाम 5 बजे तक परीक्षा हुई। पहले चरण में जहां परीक्षार्थियों के सामान्य ज्ञान को परखा गया वहीं शाम के सत्र में हिंदी व अंग्रेजी विषय पर लिखित परीक्षा हुई। यह परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थी ही एचसीएस की अगले चरण की परीक्षा में बैठने के पात्र होंगे।

शनिवार की रात होटलों में फुल रही बुकिंग
दूर दराज के जिलों के परीक्षार्थी एक दिन पहले ही कैथल पहुंचना शुरू हो गए थे। इनमें से कुछ अपने जानकारों के पास रुके लेकिन ज्यादातर ने होटलों में ही कमरे बुक करवाए। कुछ परीक्षार्थियों ने कैथल पहुंचने से पहले ही ऑनलाइन कमरे बुक करवा लिए थे। जिस कारण शनिवार की रात शहर के सभी होटलों में बुकिंग फुल रही। इसके अलावा आसपास के जिलों के परीक्षार्थी अपनी कारों में पहुंचे। जिससे शहर की सड़कों किनारे दिनभर गाड़ियों का जमावड़ा लगा रहा। परीक्षा समाप्त होने के बाद जाम की स्थिति से निपटने के लिए चौक चौराहों पर पुलिस ने ट्रैफिक को कंट्रोल किया।

कोविड-19 गाइडलाइन का किया पालन
जिले के 34 केंद्रों पर आवेदकों को परीक्षा देनी थी। इनमें से 5500 आवेदक परीक्षा देने के लिए पहुंचे। जिनका प्रतिशत 55.60 रहा। डीसी प्रदीप दहिया, एसपी लोकेंद्र सिंह, सीटीएम अमित कुमार ने परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करके सुरक्षा व्यवस्था को जांचा। इस दौरान परीक्षा केंद्रों में लगे जैमर व सीसीटीवी कैमरों की भी जांच की गई। परीक्षा के दौरान कोविड-19 गाइडलाइन का पालन किया । जिन परीक्षार्थियों ने मास्क नहीं लगाए थे उन्हें मास्क लगवाए गए।

परीक्षा को नकल रहित करवाने के लिए चार चरणों से गुजारे परीक्षार्थी
परीक्षा को नकल रहित करवाने के लिए परीक्षार्थियों को चार चरणों से गुजारा गया। पहले चरण में परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट पर रोल नंबर जांच के बाद ही परीक्षार्थी को प्रवेश की अनुमति मिली। दूसरे चरण में उनकी स्क्रीनिंग की गई। इस दौरान महिलाओं के जेवर, बेल्ट, रुमाल आदि को भी बाहर ही रखवा लिया गया। तीसरे चरण में परीक्षार्थियों को आईआरएस स्कैनर से आंखों के माध्यम से आधार बेसड अटेंडेंस की गई। उसके बाद परीक्षा हाल में परीक्षार्थियों के अंगूठे लगवाए व हस्ताक्षर करवाए गए।

दुकानदारों ने बैग रखने के 30-30 रुपए वसूले

एचसीएस परीक्षा के दौरान बाहर से आए परीक्षार्थियों को कई प्रकार की दिक्कतों का सामना करना पड़ा। जिन परीक्षार्थियों के पास अपने वाहन नहीं थे और बैग लेकर पहुंचे थे, उन्हें बैग रखने के लिए 30-30 रुपए दुकानदारों को देने पड़े। परीक्षा केंद्रों के आसपास के दुकानदारों ने अपनी दुकानों के पास ही बैग रखने के लिए काउंटर बना दिए थे। जहां बैग, मोबाइल व अन्य सामान रखने के लिए 30-30 रुपए वसूले गए।

एचसीएस भर्ती की लिखित परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हुई। जिले में 5500 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। इस दौरान सभी परीक्षा केंद्रों की उड़नदस्ताें ने चेकिंग की। परीक्षा को शांतिपूर्ण करवाने के लिए जिला प्रशासन पहले से ही सतर्क था।-प्रदीप दहिया, डीसी कैथल

खबरें और भी हैं...