बार एसोसिएशन चुनाव:दो पूर्व प्रधानों की टक्कर में बेरवाल 38 वोटों से जीतकर तीसरी बार बने प्रधान, गौतम हारे

कैथलएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जिला बार एसोसिएशन के शुक्रवार को हुए चुनाव में दो पूर्व प्रधानों की सीधी टक्कर में नफे सिंह बेरवाल तीसरी बार प्रधान बन गए। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी अशोक गौतम को 38 वोटों के अंतर से हरा दिया। उपप्रधान पद पर हुए तिकोने मुकाबले में प्रदीप धारीवाल ने 119 वोटों के अंतर से प्रतिद्वंदी प्रेम छाबड़ा को पटखनी दी। सचिव पद पर भी तिकोना मुकाबला हुआ, जिसमें मनीष राठी ने अपने प्रतिद्वंदी नवीन बिढ़ान को 16 वोट के अंतर से मात दी।

सह सचिव पद पर सुनील कुमार मनचंदा द्वारा नाम वापस लिए जाने से रितेश सिरोही को निर्विरोध सह सचिव चुन लिया गया है। इसी प्रकार कोषाध्यक्ष पद चुनाव के सीधे मुकाबले में हेमराज वधवा ने संजीव सैनी को 33 मतों से हरा दिया। नफे सिंह बेरवाल इससे पहले 2004-2005 तथा 2010-2012 में बार एसोसिएशन के दो बार प्रधान रह चुके हैं।

एक बार उन्हें सर्वसम्मति से प्रधान चुना गया था। जबकि दूसरी बार के चुनाव में उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को करीब 40 वोटों के अंतर से हराया था। इससे पहले दो बार सेक्रेटरी भी रह चुके हैं। प्रधान नफे सिंह बेरवाल ने जीत के बाद कहा कि उनकी प्राथमिकता वकीलों के हितों के लिए हरसंभव प्रयास करना रहेगा। वे सभी को साथ लेकर चलेंगे।

4 अप्रैल को पूरा हुआ था कार्यक्रम, 7 माह बाद हुए चुनाव

जिला बार एसोसिएशन की निवर्तमान कार्यकारिणी का कार्यकाल चार अप्रैल 2020 को पूरा हो गया था, लेकिन लॉकडाउन की वजह से ये चुनाव पोस्टपोन हो गए थे। करीब 7 माह बाद बार एसोसिएशन के चुनाव हुए। चुनाव अधिकारी की भूमिका सीएल उप्पल, विजय शर्मा तथा बलवान सिंह जौहर ने निभाई।

खबरें और भी हैं...