पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गाेवंश व मानव दोनों की जान रामभरोस:सड़क दुर्घटनाओं में रोजाना 3 से 4 गोवंश की हो रही मौत, 7 से 10 घायल

कैथलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में सड़कों पर गाेवंश और इनके कारण होने वाले सड़क हादसों की संख्या की तेजी से बढ़ रही है। वर्तमान में करीब 1000 बेसहारा पशु सड़कों पर हैं। इनमें सबसे ज्यादा नंदी, गाय और खच्चर शामिल हैं। बढ़ती संख्या के कारण गाेवंश और मानव दोनों की जान हमेशा खतरे में रहती है। खासकर रात के समय गाेवंश सभी सड़कों पर बीचों बीच बैठे होते हैं और सामने से लाइट आने पर ये दिखते नहीं हैं और वाहन टकरा जाते हैं।

जीवन रक्षक दल और गाेरक्षा दल मृत और घायल पशुओं को उठाने का कार्य कर रहा है। जीवनरक्षक दल के प्रधान राजू डोहर का कहना है कि रोजाना सड़क दुर्घटनाओं में तीन से चार गाेवंश की मौत और सात से 10 घायल हो रहे हैं। घायलों के लिए संस्थाओं ने अपने स्तर पर चंदाना गेट पर जगह का प्रबंध किया है और वहीं इनका इलाज किया जाता है।

वहीं मृत गाेवंश को जहां भी जगह खाली मिलती है नप की मदद से दफना दिया जाता है। प्रधान का आरोप है कि नगर परिषद के अधिकारी कर्मचारी मृत गायों को उठाने और दफनाने में तो मदद करते हैं, लेकिन घायलों को उठाने से साफ मना कर देते हैं। वहीं हादसों में गाेवंश के साथ साथ कितने लोगों की मौत हो रही है और कितने घायल इसका कोई आंकड़ा नहीं है।

जुलाई 2018 के बाद नहीं हुआ टेंडर

प्रशासन द्वारा गाेवंश को पकड़कर नंदीशाला में छाेड़ने के लिए जुलाई 2018 में टेंडर किया गया था और 1470 पशुओं को पकड़कर नंदीशाला में छोड़ा गया था। दो साल से प्रशासन द्वारा कोई टेंडर नहीं लगाया है और न ही कोई दूसरी व्यवस्था की गई है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि प्रशासन टेंडर करने को तैयार है, लेकिन गाेवंश को कहां छोड़ें ये चिंता का विषय है और किसी भी धर्मशाला में जगह उपलब्ध नहीं है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप धैर्य व विवेक का उपयोग करके किसी भी समस्या को सुलझाने में सक्षम रहेंगे। आर्थिक पक्ष पहले से अधिक सुदृढ़ स्थिति में रहेगा। परिवार के लोगों की छोटी-मोटी जरूरतों का ध्यान रखना आपको खुशी प्र...

और पढ़ें