पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गफलत में संस्कार:स्वास्थ्य कर्मी बोला- हो चुका अंतिम संस्कार, फ्रीजर में मिला शव

कैथल11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैथल|पीएमओ डॉ. रेनू चावला से बातचीत करते परिजन। - Dainik Bhaskar
कैथल|पीएमओ डॉ. रेनू चावला से बातचीत करते परिजन।
  • कोरोना संक्रमित महिला की 2 दिन पहले अस्पताल में मौत होने के बाद परिजनों तक को नहीं दी जा रही सूचना

कोरोना संक्रमितों की लगातार हो रही है माैत से जिला अस्पताल में सब कुछ गड़बड़ा रहा है। मौत होने के बाद परिजनों तक को उसकी सूचना नहीं दी जा रही है। ऐसी ही बड़ी लापरवाही सोमवार को उजागर हुई। सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना संक्रमित 70 वर्षीय महिला की 2 दिन पहले जान चली गई थी, लेकिन अस्पताल ने परिजनों को सूचना तक नहीं दी और शव को डीप फ्रीजर में रखकर छोड़ दिया।

परिजन सोमवार सुबह जब बुजुर्ग महिला का हालचाल जानने अस्पताल पहुंचे तो स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि उनकी तो 2 दिन पहले ही मौत हो चुकी है। शव मांगा तो बोले की उनका तो संस्कार भी हो चुका है। मौत के बाद सूचना नहीं मिलने और फिर शव नहीं देने पर परिजनों ने हंगामा कर दिया।

मामला ने तूल पकड़ा तो पीएमओ ने जांच शुरू की। करीब दो घंटों तक कागज टटोलने के बाद पता चला कि शव डीप फ्रीजर में रखा है। उसके बाद परिजनों से पहचान करवाकर शव को हैंडओवर किया।

परिजनों ने लापरवाही का लगाया आरोप

गांव जुलानी खेड़ा निवासी 70 वर्षीय महिला बुजुर्ग खजानी को सांस लेने में दिक्कत के चलते 2 दिन पहले ही इमरजेंसी में भर्ती किया था। इससे पहले परिजन शाह और सिग्नस अस्पताल भी गए थे, लेकिन वहां डाॅक्टरों ने जवाब दे दिया था। जांच में महिला कोरोना पॉजिटिव मिली थी और करीब 2:30 बजे उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था।

कुछ ही देर बाद 3:15 बजे उसकी मौत भी हो गई थी, लेकिन परिजनों को इसकी सूचना 2 दिन बाद भी नहीं दी गई। बुजुर्ग के बेटे जयवीर व पोते प्रवीन ने बताया कि उन्हें दाखिल करने के बाद घर भेज दिया था और बोला था कि अब उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। वे इसकी सूचना देते रहेंगे।

रविवार को उन्होंने एक कर्मचारी से पूछा तो उन्होंने बुजुर्ग को ठीक बताया। उसके बाद जब सोमवार सुबह वे हालचाल जानने पहुंचे तो उन्हें पता चला की मौत हो चुकी है और शव मांगा तो संस्कार होने का पता चला।

परिजन बोले-यहां कुछ भी ठीक नहीं

बुजुर्ग के बेटे जयवीर व पोते प्रवीन का कहना है कि अस्पताल में दाखिल मरीजों के परिजनों को न तो रहने दिया जाता है और न ही मिलने देते हैं। डाॅक्टर व नर्स भी कोई जानकारी नहीं देते हैं। बाहर खड़ा सिक्योरिटी गार्ड ही आधी अधूरी सूचना देता है। अस्पताल में कुछ भी ठीक नहीं है। अंदर मरीजों का बुरा हाल है और कोई सुध लेने वाला नहीं है।

सीधी बात: डाॅ. रेनू चावला, पीएमओ

Q. 2 दिन पहले मौत हो जाने के बाद भी परिजनों को सूचना क्यों नहीं दी गई?
A. जो मोबाइल नंबर दिया था वह मिला ही नहीं। संपर्क नहीं हो पाया तो शव को डीप फ्रीजर में रखवा दिया।

Q. जांच में किसकी लापरवाही मिली ?
A. सभी कामों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं। ये भी लापरवाही है। सभी को सख्त आदेश दिए हैं कि दोबारा ऐसी लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई होगी।

Q. कोविड वार्ड में मौत होने के बाद क्या प्रक्रिया रहती है?
A. मौत होने के बाद परिजनों को सूचना दी जाती है। उसके बाद ही संबंधित श्मशान घाट में परिजनों की मौजूदगी में संस्कार किया जाता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें