घाटों का होगा निर्माण:केडीबी श्री वृद्धकेदार तीर्थ पर बनवाएगा भव्य गेट

कैथल16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • केडीबी मानद सचिव एवं पूर्व सदस्य ने किया तीर्थ का निरीक्षण

कैथल से भेजा गया कपिध्वज राम मंदिर पर फहराया, अयोध्या से आई सूचना कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की तरफ से जल्द ही प्राचीन श्री वृद्ध केदार तीर्थ पर भव्य गेट, हॉल एवं घाटों का निर्माण होगा। ये जानकारी केडीबी के पूर्व सदस्य गोपाल सैनी ने दी। उन्होंने बताया कि केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन ने तीर्थ का निरीक्षण किया था। उसके बाद उन्होंने तीर्थ के कायाकल्प को लेकर प्रोजेक्ट तैयार करने के आदेश दिए हैं। गोपाल ने बताया कि प्राचीन श्री वृद्धकेदार तीर्थ कई सदियों के इतिहास को समेटे हुए है। तीर्थ के बारे में वामन पुराण में जानकारी मिलती है।

लाइटों को लेकर अलग से बजट खर्च किया जाएगा। इन कार्यों के लिए केडीबी की तरफ से रोडमैप तैयार किया जा रहा है। बता दें कि कैथल जिले में केडीबी के अधीन 51 महाभारत कालीन तीर्थ हैं। कैथल के गांव मटौर, खड़ालवा, काकौत और क्योड़क तीर्थों का भी जीर्णोद्धार हो रहा है।
केडीबी की सूची में शामिल कैथल जिले के 51 तीर्थ |

कैथल जिले के तहत आने वाले श्री ग्यारह रुद्री तीर्थ कैथल, वृदकेदार तीर्थ कैथल, नवदुर्गा तीर्थ देवीगढ़, देवी तीर्थ, सरक तीर्थ शेरगढ़, अन्यजन्म तीर्थ ड्याेढ़खेड़ी, कुकृत्यनाशन तीर्थ काकौत, वामन तीर्थ सौंगल, श्री तीर्थ कसान, रसमंगल तीर्थ जाखौली, हव्य तीर्थ भाना, चक्र तीर्थ सेरहदा, काव्य तीर्थ करोड़ा, जुहोमि तीर्थ हजवाना, विष्णु पद तीर्थ बरसाना, सर्यूकुंड हाबडी, ऋणमोचन तीर्थ रसीना, पूंडरीक तीर्थ पूंडरी, देवी तीर्थ मोहना, त्रिविष्टप तीर्थ टयोंठा, लव कुश तीर्थ मुंंदड़ी, यज्ञसंग तीर्थ ग्योंग, फल्गु तीर्थ फरल, पवनेश्वर तीर्थ फरल, धु्रव कुंड धेरडू, अलेपक तीर्थ साकरा, कुलोत्तारण तीर्थ कौल, कपिल मुनी तीर्थ कौल, गढऱथेश्वर तीर्थ कौल, पवन हृदय तीर्थ पबनावा, बंटेश्वर तीर्थ बरोट, कोटिकूट तीर्थ क्योड़क, वेदवती तीर्थ बलवंती, नैमिष तीर्थ नौच, श्री कुंज तीर्थ भानपुरा, मातृ तीर्थ रसुलपुर, शीतवन/ स्वर्गद्वार तीर्थ सीवन, सुतीर्थ सौंथा, इक्षुमति तीर्थ पोलड़, गंधर्व तीर्थ गोहरांखेड़ी, ब्रह्मावर्त तीर्थ प्रभावत, अरंतुक यक्ष बेहरजक्ष, शृंगीऋषि तीर्थ सांघन, गोभवन तीर्थ गुहणा, सूर्य कुंड सजूमा, ब्रह्मोदुंबर तीर्थ शीलाखेड़ा, मानुष तीर्थ मानस, आपगा तीर्थ गदली, कपिल मुनि तीर्थ कलायत, मुकुटेश्वर तीर्थ मटौर, खटवांगेश्वर तीर्थ खडालवा केडीबी की सूची में शामिल हैं।

अयोध्या से आई सूचना फहरा दिया कपिध्वज
तीर्थ के पास ही दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर स्थापित है। यहां 51 फीट की हनुमान की मूर्ति लगी हुई है। इस मंदिर से अयोध्या में बन रहे भगवान श्रीराम के मंदिर के लिए कपिध्वज भेजी गई थी। वह ध्वज श्रीराम मंदिर में लगाई जा चुकी है। कुछ समय पहले ही श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अयोध्या के महामंत्री चंपत राय की तरफ से हनुमान मंदिर को इस बारे में पत्र भेज कर सूचना दी गई है। बता दें कि कैथल को श्री हनुमान की जन्म स्थली माना जाता है। कैथल भी कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की परीधि में आता है। जिलेभर में कई ऐसे धार्मिक स्थल हैं, जिन्हें अब विकास बोर्ड की तरफ से नया रूप दिया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...