फर्जी दस्तावेज, असली लोन:मैनेजर बदलते रहे, 1.43 करोड़ के घोटाले पर पर्दा डालते रहे, डिफॉल्टिंग अमाउंट बढ़ा तो हरकत में आया बैंक

कैथल14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फर्जी दस्तावेज तैयार कर किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के गिरोह का मास्टरमाइंड है मैट्रिक पास करनाल जिले के बुडनपुर का रेशम सिंह

शहर की सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की टिंबर मार्केट शाखा में 4 साल पहले हुए घोटाले पर बैंक प्रबंधन पूरी तरह से लापरवाह बना रहा। इस दौरान तीन मैनेजर बदले। लेकिन किसी ने भी इस घोटाले से पर्दा उठाने की कोशिश नहीं की। आरोपी मैनेजर तेज सिंह चौहान के कैथल से ट्रांसफर होने के बाद 2 मैनेजर आए और कई माह तक यहां रहे। इसके बाद जून 2020 को वर्तमान मैनेजर नरेश कुमार की नियुक्ति हुई। हालांकि नियुक्ति के बाद उनके द्वारा त्वरित कोई कार्रवाई नहीं की गई। जब डिफाल्टिंग अमाउंट का समय बढ़ता गया तो बैंक प्रबंधन हरकत में आया।

इस पर बैंक मैनेजर नरेश कुमार को एक मामला ऐसा मिला जिसमें उन्हें फर्जीवाड़ा होने का शक हुआ। इसके बाद पुलिस को मामले की शिकायत दी गई। इकनॉमिक सेल ने मामले की जांच की तो पूरे घोटाले से पर्दा उठ गया। सामने आया कि इस घोटाले का मास्टरमाइंड मैट्रिक पास करनाल जिले का बुडनपुर निवासी रेश्म सिंह है। उसी ने सब कुछ फर्जी दस्तावेज तैयार करने की एजेंटों व मैनेजर को जानकारी दी। इसके बाद एक-एक कर अपने परिचतों के नाम 13 लोगों के फर्जी जमीनी दस्तावेजों के सहारे लाखों रुपए के किसान क्रेडिट कार्ड बना दिए।

बैंक प्रबंधन ने इतनी लापरवाही क्यों बरती इस पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। माना जा रहा है कि बैंक मैनेजर के अलावा और भी कर्मचारी इस घोटाले में शामिल हो सकते हैं। क्योंकि मैनेजर ही नहीं दूसरे कर्मचारियों के भी किसान क्रेडिट कार्ड बनाने की प्रक्रिया में साइन होते हैं।

नाम भी फर्जी, जमीन व पता भी फर्जी
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से जिन लोगों के नाम से किसान क्रेडिट कार्ड बनाए उनके न केवल जमीन के फर्जी दस्तावेज तैयार किए। अपितु नाम व पता भी फर्जी दिया। एजेंटों ने सिर्फ उन्हीं लोगों के किसान क्रेडिट कार्ड बनवाए जो उनकी पहचान व रिश्तेदारी में थे। इतना ही नहीं एजेंटों व मास्टर माइंड ने खुद के एड्रेस भी गलत देकर बैंक से लाखों रुपए का लोन लिया। रेश्म सिंह जो पूरे गिरोह का मास्टरमाइंड है वह करनाल जिले के बुडनपुर गांव का रहने वाला है, लेकिन उसने 9.90 लाख का किसान क्रेडिट कार्ड सिसला सिसमौर पता देकर बनवाया हुआ है। इसी तरह उनके भाई नवाब सिंह के नाम पर भी इसी पता पर 10 लाख का लोन है।

एक टेबल पर होता था काम
बैंक प्रबंधन व अन्य लोगों से कितनी मिलीभगत थी इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि किसी भी कार्य के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं थी। यदि तहसील में रजिस्ट्री करानी है तो वह भी फर्जी तरीके से एक ही जगह पर हो जाता था। इसी तरह से जमीनी फर्द पर पटवारी की मोहर लगवानी हो तो वह भी फर्जी ही लगती थी। बैंक प्रबंधन पूरी तरह से इस मामले आंखें मूंदे हुए था। किसी भी कर्मचारी ने हो रहे इस फर्जीवाड़े पर आपत्ति नहीं जताई।

रेशम ने 2018 में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ढांड शाखा में किया बड़ा घोटाला
मामले के जांच अधिकारी इकनॉमिक सेल के एएसआई महेंद्र सिंह बताते हैं कि रेश्म सिंह ने अन्य लोगों के साथ मिलकर फर्जी दस्तावेज तैयार कर 2018 में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ढांड शाखा में भी 3 करोड़ रुपए का घोटाला किया हुआ है। इस मामले में अगस्त 2019 में रेश्म सिंह समेत 21 लोगों के खिलाफ ढांड थाना में धोखाधड़ी व गबन का केस दर्ज है। इसी मामले में रेश्म सिंह जेल में बंद था।

जिसे कोर्ट से प्रोडेक्शन वारंट हासिल कर एक दिन के रिमांड पर लिया था। पुलिस पूछताछ में उसने बैंक मैनेजर समेत कई अन्य लोगों के इस घोटाले में शामिल होने का खुलासा किया है। पूछताछ में रेश्म सिंह ने बताया कि हनुमान वाटिका में उसने मोहर छिपाई हुई हैं। पुलिस ने इसके बाद हनुमान वाटिका से घास फूंस में छिपाई 16 मोहर बरामद की।
मैंने जून 2020 को किया था जाॅइन: मैनेजर
इस घोटाले के मामले में वे ज्यादा जानकारी नहीं दे सकते। उन्होंने एफआईआर में पुलिस को सब जानकारी मुहैया करवा दी हैं। ये 4 साल पुराना मामला है। मैनेजर तेज सिंह चौहान की ट्रांसफर के बाद 2 और मैनेजर यहां रहकर गए हैं। उन्होंने जून 2020 में यहां मैनेजर के पद पर जाॅइन किया था। -नरेश कुमार, ब्रांच मैनेजर, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, टिंबर मार्केट कैथल।
बैंक मैनेजर समेत 3 आरोपी गिरफ्तार : डीएसपी
फर्जी दस्तावेजों पर 1.43 करोड़ के किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर राशि हड़पने के मामले में तत्कालीन बैंक मैनेजर तेज सिंह चौहान, एजेंट हरसौला निवासी पंकज व दिलबाग को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपियों के 3 दिन के रिमांड पर लिया है। रिमांड के बाद ही घोटाले का खुलासा हो पाएगा। -विवेक चौधरी, डीएसपी, कैथल।

खबरें और भी हैं...