पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीरो सर्वे:कितनी आबादी में एंटीबॉडी बनी, ये जानने के लिए इसी माह होगा सीरो सर्वे

कैथल6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण से 12 व शहरी क्षेत्र से 8 जगहों से लिए जाएंगे 400 लोगों के ब्लड सैंपल

जिले में कितने प्रतिशत आबादी में एंटीबॉडी बन चुकी है, यह जानने के लिए इसी सप्ताह से सीरो सर्वे शुरू हो रहा है। पूरे जिले में 20 जगहों से 400 व्यस्क लोगों के ब्लड सैंपल लिए जाएंगे। इसके लिए 12 जगह ग्रामीण क्षेत्र और 8 जगह शहरी क्षेत्र से चयनित की गई। प्रत्येक साइट के लिए टीमों का गठन भी कर दिया गया है। ये टीमें घर-घर जाकर सैंपल लेंगी।

कैथल में इससे पहले अगस्त और अक्टूबर में दो सीरो सर्वे हो चुके हैं। पहले सीरो सर्वे में जिले की सिर्फ 1.7 प्रतिशत व्यस्क आबादी और दूसरे सीरो सर्वे में 11.2 प्रतिशत व्यस्क आबादी में एंटीबॉडी पाई गई थी। एंटीबॉडी कम मिलने का मतलब ये था कि कोरोना संक्रमण का फैलाव कम हुआ था और लोगों में एंटीबॉडी नहीं बन सकी थी। दोनों ही सीरो सर्वे में ग्रामीण क्षेत्र में कम आबादी में एंटीबॉडी मिली थी।

इन साइट से लिए जाएंगे सैंपल

सीरो सर्वे के लिए ग्रामीण क्षेत्र में पीएचसी बालू, सब सेंटर चौशाला व वजीर खेड़ा, पीएचसी भागल, सब सेंटर भूंसला व मैंगड़ा, पीएचसी गुहला, सब सेंटर स्यूं माजरा व भाटियां, पीएचसी पाई, सब सेंटर हजवाना व रमाना रमानी से सैंपल लिए जाएंगे। इसी तरह शहरी क्षेत्र में कैथल में अर्बन पीएचसी पुराना अस्पताल, शक्ति नगर, पटेल नगर, गुहला में सीएचसी गुहला, चीका, सीएचसी राजौंद, कलायत व पूंडरी क्षेत्र से लोगों के सैंपल लिए जाएंगे।
जिला स्तर पर होगी ट्रेनिंग : नोडल अधिकारी| तीसरे सीरो सर्वे के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए डाॅ. आशीष गोयल ने बताया कि स्टेट से ट्रेनिंग हो चुकी है। जिला स्तर पर ट्रेनिंग अभी करवाई जानी है। जून के अंतिम या दूसरे सप्ताह में यह सर्वे करवाया जाएगा। इसके लिए 20 टीमों का गठन किया गया है। कितनी प्रतिशत आबादी में एंटीबॉडी बनी है यह जानने के लिए सर्वे किया जाता है। अगर कम्युनिटी में 70 प्रतिशत में एंटीबॉडी पाई जाती हैं तो हर्ड इम्युनिटी अचीव कर लेंगे। इससे कोरोना से इम्युन हो जाएंगे। हालांकि इसको लेकर अभी भी शोध चल रहे हैं।

^जून के तीसरे या अंतिम सप्ताह में सीरो सर्वे करवाया जाएगा। इसके लिए टीमें गठित कर दी गई हैं। जल्द ही जिला स्तर पर भी ट्रेनिंग क रवा दी जाएगी।
डाॅ. शैलेंद्र ममगाईं शैली, सिविल सर्जन, कैथल।

खबरें और भी हैं...