पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समस्या:शहर में 1000 के करीब गोवंश सड़कों पर शहर निवासी बोले- गोशाला में छोड़ा जाए

कैथलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नप ने 100 गोवंश को सड़कों से पकड़ गोशाला में छोड़ा, अभियान बंद

नगर परिषद ने शहर से करीब 100 गायों व नंदी को पकड़ कर कपिस्थल नंदी-गाेशाला में छोड़ अभियान बंद कर दिया है। इससे सड़काें पर बेसहारा घूम रहे गाेवंश की संख्या में ज्यादा कमी नहीं आई है। एक अनुमान के अनुसार शहर में एक हजार के करीब गाेवंश बेसहारा हाल में सड़काें पर इधर-उधर भटकता रहता है। जिससे हादसों का डर रहता है।

शहरवासी जगरुप ढुल, रेल यात्री कल्याण समिति के प्रधान लाजपत सिंगला, विकास सेठी, आशीष शर्मा ने बताया कि अगले महीने से गर्म मौसम शुरु हो जाएगा। जिसमें गाेवंश व अन्य पशु मच्छरों से बचाव के लिए बीच सड़क में आकर बैठ जाते हैं। जिससे रात के समय वाहन चालक इनसे टकरा कर घायल हो जाते हैं। वे प्रशासन से मांग करते हैं कि गर्म मौसम से पहले शहर के सभी इलाकों से गाेवंश को पकड़ कर गाेशालाओं में छोड़ा जाए, ताकि हादसों का डर न रहे। बता दें कि कैथल शहर में कुरुक्षेत्र गाेशाला में 1700, कपिस्थल नंदी गाेशाला में 1300, गोपाल गाेशाला में तीन हजार, श्री कृष्ण संरक्षण धाम जाखौली अड्डा में चार हजार गाेवंश की देखरेख की जा रही है। अगर जिले की बात करें तो 11 गाेशालाओं में 21 हजार 500 गाेवंश को आश्रय मिला हुआ है।

गाेशालाओं में जगह न होने के कारण सड़काें पर गाेवंश

शहर की गाेशाला प्रबंधन समिति सदस्यों की कुछ माह पहले नगर परिषद में जिला पालिका आयुक्त की अध्यक्षता में मीटिंग हुई थी। जिस में समिति सदस्यों से बेसहारा घूम रही नंदी व गायों को उनके द्वारा संचालित गाेशालाओं में आश्रय देने की अपील की गई थी। लेकिन उस समय समिति सदस्यों ने डीएमसी के समक्ष आर्थिक सहायता करने की मांग की थी, ताकि गायों के लिए चारे व रहने की व्यवस्था की जा सके। लेकिन उस समय इस विषय पर बातचीत सिरे नहीं चढ़ी थी। उसके बाद नगर परिषद ने दो बार अभियान चला कर करीब 200 गाेवंश को नंदी गाेशाला में छोड़ा है।

बेसहारा गाेवंश बन रहा हादसों का कारण

शहर में करीब एक हजार गाेवंश सड़काें पर पर हैं। जिनसे हर रोज एक या दो दुर्घटनाएं होती हैं। अगस्त और सितंबर माह 2020 की बात करें तो सीवन के युवक कमलजीत (20) की मौत गौवंश से टकराने से हुई थी। इससे पहले दो और हादसों में एक पुरुष व महिला की मौत हो चुकी है। एक साल पहले अम्बाला रोड पर एक गाय से टकराने पर फ्रेंडस कॉलोनी निवासी बाइक सवार युवक, खुराना रोड पर नौच के एक युवक, प्यौदा रोड पर बाइक सवार युवक, गांव डीग निवासी व्यक्ति की गाय की टक्कर से मौत हो गई थी। इसके अलावा हर रोज आठ से दस गाय या नंदी घायल हो रहे हैं। इसमें तीन से चार गौवंश की मौत भी हो रही है।

नंदी गौशाला में अभियान चला कर 200 गाेवंश को छोड़ा जा चुका है। वे प्रयासरत हैं कि आगे भी गाेशाला प्रबंधन की सहमति से बेसहारा गाेवंश को सड़क से पकड़ कर गाेशालाओं में छोड़ा जाए।
पवन कुमार,अधीक्षक नगर परिषद।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें