छात्राओं को नि:शुल्क बस सेवा:बसों में नि:शुल्क होगा छात्राओं का सफर, विभाग तैयार कर रहा रूट चार्ट

कैथल13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परिवहन विभाग के पास 17 हजार बस पास होल्डर, इसमें से आधी संख्या छात्राओं की, छात्राओं की संख्या अनुसार चलेंगी बसें

परिवहन विभाग की बसों में आने वाले दिनों में छात्राओं को नि:शुल्क बस सेवा मिल सकती है। इसके लिए उच्चस्तर पर तैयारी चल रही हैं। विभाग के उच्चाधिकारियों ने सभी स्थानीय परिवहन अधिकारियों से उनके यहां बस पास बनवाने वाले विद्यार्थियों का डाटा मांगा है। इसके अलावा स्कूल व कॉलेजों से भी डाटा कलेक्ट किया जा रहा है। पूरा डाटा एकत्र होने के बाद परिवहन विभाग छात्राओं की संख्या के अनुसार बसों के रूट तय करेंगे। परिवहन विभाग ने एक रूट चार्ट भी बनाया है ताकि विद्यार्थियों को अपने संस्थान तक पहुंचने में परेशानी का सामना न करना पड़े। हालांकि अभी कोरोना महामारी के कारण स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान बंद हैं।
परिवहन विभाग के पास 17 हजार पास होल्डर
अपने गांवों से प्रतिदिन शहर में शिक्षण संस्थान में आने वाले विद्यार्थियों की संख्या बहुत ज्यादा है। स्थानीय परिवहन विभाग के पास ही 17 हजार बस पास होल्डर हैं। इसमें स्कूल, आईटीआई, कॉलेजों के विद्यार्थी शामिल हैं। इस कुल संख्या में से लगभग आधी संख्या लड़कियों की है।

इन ग्रामीण रूटों पर भी चल रही बसें
विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए परिवहन विभाग ने कैथल से माजरा वाया सौंगल, जिससे शेरूखेड़ी, सौंगल एवं माजरा, कैथल से पाई वाया पूंडरी, कैथल से हरसौला, सिरसम, सिसला प्यौदा, कैथल से ढांड, कैथल से धनौरी-गुहणा और कलायत रूट पर भी बसों का संचालन विद्यार्थियों की सुविधा को देखते हुए चलाई जा रही हैं जिससे विद्यार्थी समय से अपने शिक्षण संस्थान पहुंचते हैं। इन बसों का सुबह का समय 7.10 बजे से शुरू होता है।
महिलाओं के लिए चार पिंक बसें
परिवहन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान समय में जिले में चार मिनी पिंक बसें चल रही हैं। इन बसों में सुबह के समय केवल महिलाओं को ही बैठाया जाता है। इन बसों का छात्राओं को फायदा मिल रहा है। इसमें एक बस माजरा से सौंगल चल रही है। चीका से कैथल, कलायत से कैथल और गांव करोड़ा से कैथल रूट पर चल रही हैं।
बस रूट चार्ट एवं अन्य मांगी गई जानकारियां उच्चाधिकारियों को भेजी गई है। विद्यार्थियों के लिए सरकार पहले ही बेहतर सुविधा दे रही है। स्पेशल बसें भी चलाई गई हैं बाकी उच्चाधिकारियों से जो भी आदेश आएंगे, उसी अनुसार आगे कार्रवाई की जाएगी।
अजय गर्ग, महाप्रबंधक, परिवहन विभाग कैथल।

खबरें और भी हैं...