पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आज से महिलाएं करा सकेंगी नलबंदी ऑपरेशन:ऑपरेशन थियेटर में संक्रमण है या नहीं रिपोर्ट आने पर शुरू होंगी सर्जरी

कैथल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कैथल| कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण सिविल अस्पताल में बंद पड़ा ऑपरेशन थियेटर। - Dainik Bhaskar
कैथल| कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण सिविल अस्पताल में बंद पड़ा ऑपरेशन थियेटर।
  • जिले में 500 से ज्यादा सर्जरी पेडिंग-अस्पताल प्रबंधन का दावा-24 से शुरू करवाई जाएंगी इलेक्टिव सर्जरी

सिविल अस्पताल में 40 दिन से भी ज्यादा समय से बंद पड़े ऑपरेशन फिर से शुरू होंगे। बशर्त है ऑपरेशन थियेटर की रिपोर्ट की निगेटिव आ जाए। सर्जरी शुरू करने से पहले अस्पताल प्रबंधन ऑपरेशन थियेटर से कल्चर स्वैब लेकर संक्रमण जांच के लिए करनाल के कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में भेजेगा। यदि रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है तो 24 जून से सिविल अस्पताल में इलेक्टिव सर्जरी शुरू हो जाएंगी। इससे पहले राहत की बात ये है कि शनिवार से अस्पताल में महिलाओं के नलबंदी के ऑपरेशन शुरू हो जाएंगे।

कोविड संक्रमण के पीक पर पहुंचने के बाद 7 मई को इमरजेंसी को छोड़ सभी तरह की सर्जरी व नलबंदी बंद कर दी गई थी। काफी संख्या में महिलाएं नलबंदी कराने के इंतजार में हैं। अधिक त्तर प्राइवेट अस्पतालों में भी नलबंदी ऑपरेशन न होने के कारण महिलाओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कोविड वार्ड में बदला था ऑपरेशन थियेटर
सिविल अस्पताल में पहली ही मंजिल पर कोविड संक्रमितों के उपचार के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाया है। इसी तल पर साथ में ही ऑपरेशन थियेटर भी मौजूद है। जब संक्रमितों की संख्या अचानक तेजी से बढ़ने लगी तो स्वास्थ्य विभाग ने ऑपरेशन थियेटर को कोविड वार्ड में तबदील कर दिया था और यहां संक्रमितों को भर्ती किया था।

छोटी बड़ी रोजाना 20 से ज्यादा सर्जरियां होती थी
7 मई को ऑपरेशन थियेटर बंद होने से पहले रोजाना छोटी बड़ी 20 से ज्यादा सर्जरी होती थी। इनमें सबसे ज्यादा जनरल सर्जरी, उसके बाद ऑर्थो, सिजेरियन, ईएनटी और नेत्र रोग विभाग की सर्जरियां शामिल हैं। हालांकि 40 दिन से सर्जरी बंद होने के कारण 500 से ज्यादा इलेक्टिव सर्जरियां पेंडिंग हैं जिन्हें कोविड की दूसरी लहर के कारण ओटी बंद होने से टाल दिया था।

रोजाना 7 महिलाओं के होते थे नलबंदी के ऑपरेशन
पूरे जिले में सरकारी अस्पतालों में सिर्फ कैथल सिविल अस्पताल में ही नलबंदी के ऑपरेशन की सुविधा है। कोविड से पहले रोजाना औसतन 7 महिलाओं के नलबंदी के ऑपरेशन हो रहे थे। इस हिसाब से पिछले 40 दिनों से नलबंदी के ऑपरेशन बंद होने के कारण करीब 250 से 300 महिलाओं को इनके शुरू होने का इंतजार है। नलबंदी के ऑपरेशन कोविड के कारण नीचे शिफ्ट किए ओटी में किए जाएंगे। यहां अब तक सिर्फ सिजेरियन ही किए जा रहे हैं।

हेड क्वार्टर से इलेक्टिव सर्जरी शुरू करने के आदेश मिल चुके हैं। जल्द ही इलेक्टिव सर्जरी होने लगेंगी। लेकिन इसके लिए निर्धारित प्रक्रिया को फॉलो करना पड़ेगा। पहले संक्रमण के खात्मे के लिए दवाई का छिड़काव किया जाएगा और उसके 48 घंटें बाद कल्चर स्वैब का सैंपल लेकर करनाल भेजा जाएगा। रिपोर्ट निगेटिव मिली तो 24 जून से इलेक्टिव सर्जरियां शुरू कर दी जाएंगी।
डाॅ. शैलेंद्र ममगाईं शैली, सिविल सर्जन, कैथल।

खबरें और भी हैं...