पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वैक्सीनेशन की कवायत:थानेसर में 8 और गांवों में 111 टीम करेंगी लोगों को जागरूक

कुरुक्षेत्रएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के बीच मलेरिया पर रोक लगाने के उद्देश्य से जून में मलेरिया रोधी मास मनाया जा रहा है। इस समय प्रदेश में लॉकडाउन कारण इस अभियान के तहत सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं किए जाएंगे, जबकि घर-घर जाकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. सुदेश सहोता के मुताबिक इसके लिए थानेसर शहर में 8 टीम तथा 111 टीम ग्रामीण क्षेत्र में बनाई है। इन टीमों को निर्देश दिए कि जहां भी जल-भराव की स्थिति हो वहां एंटी लारवा गतिविधियां करें।

कोई बुखार का रोगी मिले तो उसकी रक्त पट्टिका बनाकर शीघ्र प्रयोगशाला में जमा करोमवाएं। लैब से रिपोर्ट 24 घंटे में उपलब्ध करवाएं। जहां जल-भराव की स्थिति है तो वहां काला तेल डालकर मच्छर का पहली स्टेज में ही खात्मा करने का प्रयास करें। पूरी बाजू के कपड़े पहने, मच्छर दानी का प्रयोग करें । रविवार को सूखा दिवस (ड्राई डे) मनाएं। इस दिन कूलरों, टंकियों, हौदियों, पशु-पक्षियों के बर्तनों को धोकर व सुखाकर कर ही प्रयोग करें। ताकि लारवा न पनप सके। कर्मचारियों को यह भी निर्देश दिए गए कि जिन घरों, दफ्तरों, दुकानों में लारवा मिले उन्हें नोटिस देकर चेताया जाए।

तालाबों में डलवाई मछलियां
टीमों द्वारा अभी तक 34 घरों में लारवा मिलने पर नोटिस जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि जिले के सभी तालाबों में गम्बूजिया मछली डलवा दी है। हेल्थ इंस्पेक्टर मनजीत भोला ने बताया कि जनवरी से अब तक 37337 रक्त के नमूने लिए गए। जिनमें मलेरिया का एक भी रोगी नहीं मिला है।

खबरें और भी हैं...