पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अस्पताल पहुंचे कोर्ट:कोरोना मरीजों का इलाज करने के ढाई करोड़ नहीं मिले

कुरुक्षेत्रएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाईकोर्ट ने अस्पताल के संचालक की अदायगी के मामले में सरकार को किया नोटिस जारी

कोरोना मरीजों के इलाज की एवज पूरा भुगतान न मिलने पर शहर के राधाकृष्ण अस्पताल संचालक ने अब हाईकोर्ट की शरण ली है। पिछले काफी समय से उक्त अस्पताल संचालक अपना बकाया पैसा लेने के लिए स्वास्थ्य विभाग के पास चक्कर काट रहे थे, लेकिन विभाग की तरफ से भुगतान नहीं किया गया। जिस पर संचालक ने अब हाईकोर्ट में याचिका लगाई।

हाईकोर्ट ने इस मामले में अपना पक्ष रखने के लिए प्रदेश सरकार को नोटिस भी जारी किया है। हाईकोर्ट ने राधा कृष्ण अस्पताल के संचालक डॉ. लोकेंद्र गोयल के मामले में हरियाणा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को इलाज की राशि की अदायगी बारे नोटिस किया है।

साढ़े 95 लाख दिए: डॉ. गोयल ने बताया कि उन्होंने सरकार द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार बिल स्वास्थ्य विभाग के पास बिल जमा करवाया। सरकार ने बिल पास होने के बावजूद केवल 95 लाख 60 हजार की अदायगी की। उनका सरकार की तरफ करीब ढाई करोड़ से अधिक के बिल की अदायगी बकाया है।

22 अप्रैल की लगी तारीख

डॉ. गोयल ने बताया कि वे सरकार से अपने बिल की अदायगी के लिए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज तथा अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैंस लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। अब हाईकोर्ट में याचिका दायर की। अब हाईकोर्ट ने सरकार को 22 अप्रैल को अपना पक्ष रखने का समय दिया है।

31 अगस्त 2020 से 15 जनवरी 2021 तक किया 226 कोरोना मरीजों का इलाज

डॉ. लोकेंद्र ने बताया कि जिस समय कुरुक्षेत्र में कोरोना से मौत मामले रोज सामने आ रहे थे। उस समय स्वास्थ्य विभाग ने उनके अस्पताल में गत 31 अगस्त से 15 जनवरी 2021 तक 226 कोरोना संक्रमित मरीजों को इलाज के लिए भेजा। डॉ. गोयल ने कहा कि यह ऐसा समय था कि कोरोना से मरीज मर रहे थे लेकिन सरकार के पास उस समय न तो सरकारी अस्पताल में उचित सुविधाओं सहित कोरोना से लड़ने के लिए उपयोगी अस्पताल थे और न ही चिकित्सक एवं चिकित्सा उपयोगी आधुनिक उपकरण थे।

ऐसे समय में ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने प्राकृतिक आपदा कानून के तहत इलाज के लिए उन्हें मजबूर किया। उन्हें डॉ. वीके पाल, सदस्य नीति आयोग, भारतीय संघ की कोविड इलाज खर्च पर आई रिपोर्ट अनुसार इलाज की राशि की अदायगी की बात कही थी।

तब गंभीर मरीजों को वेंटिलेटर पर रखना पड़ता था। जिन 226 कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज किया उनमें 93 वर्षीय मरीज था तो एक माह का भी एक मरीज शामिल था। जिसका जन्म मात्र 7 माह के गर्भ के बाद हुआ था। डॉ. गोयल ने दावा किया कि 226 कोरोना संक्रमित मरीजों का सफल इलाज किया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें