पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोराेना की पहली और दूसरी लहर में पहली बार...:16 महीने में 21772 संक्रमित केस मिलने के बाद हमने हासिल किया ये शून्य

कुरुक्षेत्र4 दिन पहलेलेखक: संजीव राणा
  • कॉपी लिंक
  • कुरुक्षेत्र में कोई कोरोना संक्रमित नहीं बचा

कुरुक्षेत्र जिले के लोगों के लिए अच्छी खबर है। कोरोना की संक्रमण दर जीरो पहुंचने के साथ अब एक्टिव केस भी खत्म हो गए हैं। जिले में अब कोई भी कोरोना संक्रमित केस नहीं बचा है। स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को 1852 लोगों के कोरोना टेस्ट किए थे, जिनमें आरटीपीसीआर के 1787 व रैपिड एंटीजन के 65 सैंपल शामिल हैं।

मंगलवार को किसी भी व्यक्ति की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है। एक मरीज को ठीक होने पर डिस्चार्ज किया गया। जिले में पिछले डेढ़ सप्ताह से कोई भी कोरोना संक्रमित केस नहीं मिला है। जिले में एक ही एक्टिव केस था जिसके ठीक होकर डिस्चार्ज होने के बाद कोरोना के केस जीरो हो गए हैं। यह जिले के लोगों की जागरुकता का प्रमाण है।

पहली लहर में मिले थे कोरोना के कुल 9109 पॉजिटिव
6 अप्रैल 2020 को सेक्टर-7 में पहला कोरोना पॉजिटिव केस मिला था। इसके बाद कोरोना केसों का बढ़ना शुरू हो गया था। पहली लहर में 9109 पॉजिटिव केस मिले थे और पहली लहर में ही 134 लोगों की मौत हुई थी। पहली लहर में कुल 8817 पॉजिटिव मरीज ठीक भी हुए थे। इसके साथ ही केस कम होने शुरू हो गई। लेकिन दूसरी लहर में पहली लहर से भी ज्यादा केस मिले।

इस साल अप्रैल और मई रहे सबसे खतरनाक
दूसरी लहर में अप्रैल और मई सबसे ज्यादा खतरनाक रहे। अप्रैल में एक दिन में पहली बार 287 केस आए, इसके बाद केस बढ़ने शुरू हो गए थे। 25 से 26 मार्च तक 80 से 85 केस मिल रहे थे। अप्रैल के अंत से केसों में रफ्तार बढ़ी। एक मई को 189 कोरोना संक्रमित मिले थे। वहीं 31 मई तक कुल केसों की संख्या 21,544 तक पहुंच चुकी थी।

कोविड-19 से बचाव के लिए सतर्कता जरूरी, वैक्सीनेशन से रोक सकते हैं तीसरी लहर
डीसी मुकुल कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस अभी समाप्त नहीं हुआ है, इस वैश्विक महामारी से बचाव के लिए जागरुकता बेहद जरूरी है। कोरोना से बचने का मूल मंत्र सतर्कता है और सावधानी बरतते हुए इस महामारी को फैलने से रोका जा सकता है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव व वैक्सीनेशन के प्रति हर आमजन को जागरूक किया जा रहा है। सभी नागरिक वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर वैक्सीन जरूर लगवाएं, इससे शरीर में किसी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के दौर में ढिलाई किसी भी रूप से न बरती जाए।

एक खतरा यह भी आया था: ब्लैक फंगस के आ चुके 3 केस
कुरुक्षेत्र में कोरोना के बीच ब्लैक फंगस के भी केस मिलने शुरू हो गए थे। इससे लोगों में भय फैलने लग गया था। इन केसों के सैंपल कुरुक्षेत्र से करनाल में कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में भेजे गए थे। कुरुक्षेत्र में ब्लैक फंगस के 3 केस मिले थे। उनके सैंपल पॉजिटिव आने के बाद उन्हें करनाल भेज दिया था। जहां उनका इलाज हुआ।

मंगलवार रहा मंगल: कोरोना मुक्त होने पर जिले को बधाई
डीसी मुकुल कुमार ने मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट और बुलेटिन का अवलोकन करने के उपरांत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि सभी के प्रयासों से कुरुक्षेत्र मंगलवार को कोरोना मुक्त हुआ है, लेकिन अभी भी इस स्थिति को बरकरार रखने की जरूरत है यह तभी सम्भव हो पाएगा जब सभी लोग सख्ती से कोविड-19 की गाइडलाइन की पालना करेंगे।

356 मौतें अब तक जिले में हो चुकी हैं
जिले में अब तक 512321 व्यक्तियों के सैंपल लिए गए, जिनमें से 488570 व्यक्तियों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। जिले में अब तक 22128 पॉजिटिव मिले चुके हैं, इनमें से 356 की मौत हो चुकी है। जिला में कोरोना वायरस के 0 एक्टिव केस हैं। जिले का पॉजिटिविटी रेट 4.33 प्रतिशत और रिकवरी रेट 98.39 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.63 प्रतिशत है।

खबरें और भी हैं...