बैठक का आयोजन:आंगनबाड़ी वर्करों ने 8 से 11 दिसंबर तक हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया

कुरुक्षेत्र2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आंगनबाड़ी वर्कर एवं हेल्पर यूनियन ने जिला प्रधान कलावती की अगुवाई में बैठक कर अपनी मांगें पूरी न किए जाने के विरोध में 8 से 11 दिसंबर तक हड़ताल करने का निर्णय लिया है। यूनियन की प्रधान कलावती ने कहा कि यूनियनों की संयुक्त तालमेल कमेटी ने 22 नवंबर व 26 नवंबर को विभाग की निदेशिका को मांग पत्र व नोटिस भेजा था, लेकिन उन नोटिसों पर विभाग का कोई सकारात्मक रख सामने नहीं आया। .

इसके चलते विरोध स्वरूप जिले की सभी आंगनबाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स 8 से 11 दिसंबर तक हड़ताल पर रहेंगी। यदि उसके बाद भी विभाग ने उनकी मांगें नहीं मानी तो संयुक्त तालमेल कमेटी हड़ताल को आगे बढ़ाने पर विचार करेगी। उन्होंने अपनी मांगों के बारे में बताया कि आंगनबाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स को सरकारी कर्मचारी का दर्जा दिया जाए तथा जब तक कर्मचारी का दर्जा नहीं दिया जाता, तब तक आंगनवाड़ी वर्कर्स को 24 हजार व हेल्पर को 16000 रुपए वेतन दिया जाए, 2018 में की गई घोषणाओं के अनुसार महंगाई भत्ते की तमाम किस्त मानदेय में जोड़कर दी जाए, विभाग द्वारा फोन व अन्य संसाधन दिए बिना कोई ऑनलाइन कार्य न करवाया जाए।

आंगनबाड़ी वर्कर्स को पांच लाख रुपए व हेल्पर को तीन लाख रुपए रिटायरमेंट लाभ दिया जाए। आंगनबाड़ी केंद्रों का किराया बढ़ाकर ग्रामीण क्षेत्रों में 2000 रुपए व शहरी क्षेत्रों में 3000-5000 रुपए किया जाए। आंगनबाड़ी वर्कर्स से सुपरवाइजर के रूप में 50 प्रतिशत पदोन्नति को बिना शर्त लागू किया जाए ।

आंगनवाड़ी वर्कर व हैल्पर को दुर्घटना होने पर पूरा इलाज खर्च मिले। प्ले वे स्कूल के नाम पर आईसीडीएस का निजीकरण न किया जाए। आईसीडीएस में खाली पड़े सभी पदों को भरा जाए। आंदोलन के दौरान आंगनबाड़ी कर्मियों पर दर्ज मुकदमे निरस्त किए जाएं सहित अन्य कई मांगे हैं।

खबरें और भी हैं...