पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निर्देश:चैत्र चौदस आज से, कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट के बिना धर्मशालाओं में एंट्री नहीं

पिहोवा-कुरुक्षेत्र10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सार्वजनिक भंडारों पर पूरी तरह से पाबंदी होगी, श्रद्धालु नहीं कर सकेंगे स्नान

चैत्र चौदस पर चार दिवसीय आयोजन शुक्रवार से शुरू होगा। हरियाणा, पंजाब, हिमाचल समेत कई प्रदेशों से श्रद्धालु सरस्वती तीर्थ पर अपने दिवंगत पूर्वजों का पिंडदान कराने पहुंचेंगे। कोविड को देखते हुए इस बार मेला रद्द किया जा चुका है, लेकिन श्रद्धालुओं को पिंडदान आदि से नहीं रोका जाएगा।

500 से ज्यादा की भीड़ जुटने पर पाबंदी रहेगी। वहीं बिना कोविड निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालुओं को तीर्थ पर नहीं जाने दिया जाएगा। प्रशासन भीड़ रोकने को लेकर अभी प्लानिंग पर ही काम कर रहा है। मुख्य स्नान 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या पर होगा, लेकिन श्रद्धालु 9 से ही पिंडदान के लिए पहुंचना शुरू हो जाएंगे।

तीर्थ में नहीं पानी, नहीं लगेगी डुबकी : इस बार श्रद्धालु सरस्वती तीर्थ में डुबकी नहीं लगा पाएंगे। कोरोना को देखते हुए सरस्वती तीर्थ लंबे समय से जल विहीन है और प्रशासन की ओर से अभी तक इसमें पानी नहीं छोड़ा है। इस बार प्रशासन ने मेला लगाने से हाथ खड़े कर लिए हैं। कोरोना को देखते हुए प्रशासन की ओर से बाहर मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा।

500 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदी

बिना रिपोर्ट नहीं एंट्री : यहां पहुंचने वाले यात्रियों की सुरक्षा और कोरोना गाइडलाइंस का पालन कराने के लिए प्रशासन मुस्तैद है। एसडीएम सोनूराम ने बताया कि चैत्र चौदस के अवसर पर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की नाकों पर चेकिंग की जाएगी।

बिना मास्क के किसी को भी नगर पालिका सीमाओं में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। बिना मास्क घूम रहे लोगों के चालान काटने के लिए टीमें गठित की हैं। इसके अलावा चेक पोस्ट बनाकर सभी पहुंचने वाले लोगों का टेंपरेचर भी चेक किया जाएगा। इस बार प्रशासन ने धर्मशालाओं के सिर पर ही यह जिम्मेदारी सौंप दी है। धर्मशाला संचालक सुनिश्चित करेंगे कि कोरोना टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट लिए बिना कोई भी व्यक्ति उनके यहां न ठहरे। सार्वजनिक भंडारों पर पूरी तरह से पाबंदी होगी।

पुरोहितों को हिदायत, पिंडदान करवाते समय सोशल डिस्टेंसिंग के तहत ही यात्रियों को बैठाएं

एक जगह पर 500 से अधिक लोगों को एकत्रित नहीं होने दिया जाएगा। तीर्थ पुरोहितों को भी हिदायत जारी की है कि पिंडदान करवाते समय सोशल डिस्टेंसिंग के तहत ही यात्रियों को बैठाएं और सभी मास्क पहनकर धार्मिक प्रक्रिया में भाग लें।

व्यवस्था बना रहा प्रशासन

इस बार लाइटिंग और झूलों और पार्किंग के टेंडर भी जारी नहीं किए हैं। ट्रैफिक नियंत्रण के लिए पुलिस की टीमों का गठन किया है। प्रशासन द्वारा सफाई व्यवस्था दुरुस्त की जा रही है, लेकिन यह रूटीन की सफाई व्यवस्था है। असल में ब्राह्मण समाज का प्रशासन व सरकार पर दबाव था कि कोरोना के कारण पिछले वर्ष भी मेला आयोजित नहीं हो पाया था। जिससे उनका रोजगार ठप हो गया था।

एक तीर्थ पुरोहित के पास लाखों रुपए का कारोबार मेले के दौरान होता है और इसी से पूरा वर्ष उनकी आजीविका चलती है। प्रशासन ने मेला आयोजित करने की बजाय थोड़ी ढील देते हुए ऐसा इंतजाम किया कि पिंडदान भी हो जाए और मेला भी ना लगे।

सन्निहित सरोवर पर भी पाबंदी

पिहोवा के साथ साथ कुरुक्षेत्र के सन्निहित सरोवर पर भी 500 से ज्यादा लोगों के जुटने पर पाबंदी रहेगी। डीसी शरणदीप कौर बराड़ ने कहा कि इसे लेकर पुलिस को जिम्मा सौंपा है। एक समय में 500 से ज्यादा लोग यहां नहीं जुटेंगे। उधर एसडीएम का कहना है कि भीड़ रोकने को लेकर प्लानिंग बनाई जा रही है। 9 अप्रैल को प्लानिंग तय हो जाएगी। इसके बाद उसी हिसाब से काम होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें