नवरात्र महोत्सव:31 प्रजातियों और 35 अलग-अलग रंगों के 31 लाख फूलों से सजाया जा रहा देवी कूप भद्रकाली मंदिर

कुरुक्षेत्र7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुरुक्षेत्र | प्रदेश के एकमात्र शक्तिपीठ देवी कूप भद्रकाली मंदिर को फूलों से सजाते कलाकार। - Dainik Bhaskar
कुरुक्षेत्र | प्रदेश के एकमात्र शक्तिपीठ देवी कूप भद्रकाली मंदिर को फूलों से सजाते कलाकार।

पिछले साल नवरात्र महोत्सव कोरोना के चलते लॉकडाउन की वजह से फीका पड़ा था, लेकिन इस बार कोविड के साये के बीच धर्मनगरी में महोत्सव मनाने की पूरी तैयारियां हैं। मंदिरों में साज-सज्जा चल रही है। कोविड वायरस के चलते मंदिरों में भीड़ पर नियंत्रण रहेगा। दो साल बाद चैत्र नवरात्र पर देवी कूप से शोभायात्रा निकलेगी। मंदिर को लाखों रुपए के देसी विदेशी फूलों से सजाया जा रहा है। हर घंटे मंदिर परिसर सेनिटाइज होगा।

52 ध्वज, 52 कलश के साथ शोभायात्रा : शोभायात्रा का स्वरूप पहले की तुलना में बेहद कम रहेगा। सन् 2019 में 50 शक्तिपीठों के प्रतीक स्वरूप 5200 कलशधारी महिलाएं शामिल हुई थीं। इस बार सिर्फ 50 महिलाएं होंगी। 52 ध्वज और 50 त्रिशूल रहेंगे। शोभायात्रा में प्रसाद नहीं बांटा जाएगा। न ही पानी की सेवा होगी। पीठाध्यक्ष सतपाल शर्मा के मुताबिक शोभायात्रा में 500 से कम भीड़ रहेगी। देवीकूप मंदिर की साज-सज्जा सोमवार शाम तक चली।

देश-विदेश से 31 प्रजातियों और 35 विभिन्न रंगों के 31 लाख फूलों से सजावट की जा रही है। इनमें नागालैंड से कंकरिया लॉन्ग और हाय डेंजर, थाईलैंड से आर्केट और डेजे, बेंगलुरू से एथेरियम और जरबेरा आदि फूल मंगवाए गए हैं। सतपाल शर्मा के मुताबिक एमील ग्रुप की तरफ से श्रृंगार के लिए तीन ट्रक फूल और एक ट्रक फल भेजे गए हैं। एमील ग्रुप यहां जागरण भी कराता है।

बुर्ज खलीफा की तरह लाइट शो

पीठाध्यक्ष सतपाल शर्मा ने बताया कि ज्योति प्रतिस्थापन व आरती के पश्चात रात 8 बजे दुबई बुर्ज खलीफा की तरह नव वर्ष के मौके पर आतिशबाजी जैसा भव्य नजारा देखने को मिलेगा। मां भद्रकाली मंदिर पर विशेष लाइट इफेक्टस् 108 फुट ऊंचे गुम्बद पर दिखाई देंगे। मंदिर परिसर में पहुंचने वाले सभी श्रद्धालुओं से मास्क पहनकर ही मंदिर में आने का आग्रह किया।

खबरें और भी हैं...