पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यक्रम शुरू:मानव जीवन को उत्कृष्ट बनाने के लिए डिजिटल सेंसर की जरूरत- प्रो. सचदेवा

कुरुक्षेत्र14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • केयू के यूआईईटी संस्थान में पांच दिवसीय फैकल्टी डिवेलपमेंट कार्यक्रम शुरू

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के एक्टिव ट्रेनिंग और लर्निंग एकेडमी की ओर से यूआईईटी संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग द्वारा सेंसर टेक्नोलॉजी पर पांच दिवसीय फैकल्टी डिवेलपमेंट कार्यक्रम का केयू कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने उद्घाटन किया। प्रो. सचदेवा ने कहा कि सेंसर को भौतिक, रासायनिक और जैविक प्रॉपर्टी को मापने के लिए उपयोग में लाया जाता है।

मानवीय जीवन में घटित होने वाली सभी क्रियाओं को सेंसर के माध्यम से नापा जा सकता है। आवश्यकता इस बात की है कि सभी विषय का अवलोकन कर उत्कृष्ट तकनीक का विकास किया जाए। इसलिए सेंसर टेक्नोलॉजी के उपयोग से मानव जीवन को उत्कृष्ट बनाने का प्रयास करना चाहिए। प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा कि इस समय आधुनिक गुणवत्ता वाले डिजिटल सेंसर की आवश्यकता है, जो मोबाइल डिवाइस के साथ प्रयोग में लाया जा सके। इन डिजिटल सेंसर की खूबी यह भी है कि ये कम ऊर्जा का प्रयोग कर अधिक से अधिक सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं और लंबे समय तक बिना रिचार्ज किए प्रयोग में लाया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...