छलका दर्द:नगर परिषद में तबादलों से उखड़े कर्मचारी, शुक्रवार को दिनभर कामकाज रखा बंद, लोगों ने झेली दिक्कत

कुरुक्षेत्र10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नगर परिषद में तबादलों के विरोध में एओ के कमरे में एकजुट हुए नगर परिषद के कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
नगर परिषद में तबादलों के विरोध में एओ के कमरे में एकजुट हुए नगर परिषद के कर्मचारी।
  • कर्मचारी बोले-जब तक ब्रांच का काम समझने लगते हैं, उससे पहले तबादला कर दिया जाता है

नगर परिषद द्वारा हाउस टैक्स, बिल्डिंग ब्रांच सहित कई अन्य विभागों में कर्मचारियों के तबादलों के विरोध में नप की सभी शाखाओं के नियमित क्लर्क उतर आए। शुक्रवार को नगर परिषद की सभी शाखाओं में कर्मचारियों ने कामकाज बंद कर किसी भी विभाग में पब्लिक डीलिंग नहीं की।

सभी कर्मचारी एकजुट होकर विधायक सुभाष सुधा के निवास पर भी पहुंचे, लेकिन विधायक के बाहर होने के चलते उनसे मुलाकात नहीं हो पाई। साथ ही एसडीएम से भी मिले। इसके बाद दोपहर तीन बजे के बाद नगर परिषद के ईओ व सचिव के सामने भी कर्मचारियों ने अपना दुखड़ा रोया। ईओ बलबीर रोहिल्ला ने कर्मचारियों को समझाया, कि तबादले रूटीन की कार्रवाई है।

किसी भी कर्मचारी के साथ भेदभाव की नीयत से तबादले नहीं किए गए। दोपहर बाद किसी तरह नप अधिकारियों की बैठक के बाद कर्मचारी कुछ शांत हुए और करीब चार बजे अपने विभागों में बैठे, लेकिन शुक्रवार को किसी भी विभाग में पब्लिंग डीलिंग कर्मचारियों ने नहीं की। कर्मचारियों ने सीधे नप के कुछ अधिकारियों की सह पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।

कर्मचारियों ने कहा कि गलत काम अधिकारी करवाते हैं, और बदनामी उन्हें सहनी पड़ती है। कर्मचारियों ने कहा इस तरह भ्रष्टाचारों के आरोपों व बदनामी व गलत काम न करने वाले कर्मचारियों को जो प्रताड़ना दी जा रही है। वह सहन नहीं की जाएगी।
12 कर्मचारियों के हुए थे तबादले : नगर परिषद की ओर से गुरुवार को हाउस टैक्स, सफाई शाखा, रेंट ब्रांच सहित 12 लिपिकों के तबादले किए थे।

ईओ व सचिव बोले-रूटीन तबादले, किसी से कोई भेदभाव नहीं, गलत काम करने वालों पर कार्रवाई भी होगी

आरोप - कर्मचारियों से किया जा रहा प्रताड़ित
नगर परिषद की विभिन्न शाखाओं में तैनात कर्मचारियों ने भ्रष्टाचार को सह देने में खुद नप के कुछ अधिकारियों पर आरोप लगाया है। कहा कि अगर उनके कहने से गलत काम नहीं करते, तो प्रताड़ित किया जाता है। कई कर्मचारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि दलालों का काम अगर कर्मचारी नहीं करते, तो नप के एक अधिकारी ही कर्मचारियों को प्रताड़ित कराते हैं।

ठेस - तबादले से स्वाभिमान से हो रहा खिलवाड़
नगर परिषद में एकजुट हुए कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि रोजाना कर्मचारियों को एक दूसरी ब्रांच में तबादला कर दिया जाता है। वहीं भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर तबादला करने से उनकी साख भी खराब होती है। कर्मचारियों ने कहा इस तरह स्वाभिमान से खिलवाड़ नहीं होने देंगे।

अधिकार - किस कर्मचारी को कहां लगाना यह अधिकारियों को पावर है : ईओ
नगर परिषद ईओ बलबीर रोहिल्ला व सचिव अजीत अरोड़ा का कहना है कि कर्मचारियों के तबादले रूटीन कार्रवाई है। किसी के साथ भेदभाव या प्रताड़ित करने के लिए तबादले नहीं किए गए। बेहतर कामकाज के लिए कर्मचारियों के तबादले का अधिकार उनके पास है। वहीं ईओ व सचिव का कहना है कि नप के किसी अधिकारी द्वारा गलत काम का दबाव बनाने और दलालों के कामकाज करने के लिए भी दबाव बनाने के आरोप निराधार हैं।

अगर कर्मचारियों को कोई इस तरह गलत काम का दबाव बनाता है, तो उन्हें इस संबंध में बता सकते हैं, उन्हें आजतक किसी कर्मचारी ने नप के किसी अधिकारी या कर्मचारी के खिलाफ कभी शिकायत नहीं की। ईओ ने कहा कर्मचारियों के तालमेल से ही काम बेहतर हो सकता है, इसके बावजूद अगर किसी कर्मचारी को भविष्य में दिक्कत होगी, तो सहूलियत अनुसार उसे दूसरी शाखा में भेजा जा सकता है। सोमवार से सभी शाखाओं में रूटीन में कामकाज होगा।

खबरें और भी हैं...