खरीद बिक्री:मिलर्स प्रति नमी पर 20 रुपए तक कट लगाकर उठा रहे धान

कुरुक्षेत्र15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राइस मिलर्स की हड़ताल खत्म होते ही और बाहर के मिलर्स के आरओ कटने के साथ ही चौथे दिन बुधवार को खरीद ने रफ्तार पकड़ ली, जिलेभर की मंडियों में पांच लाख 40 हजार क्विंटल धान की खरीद हुई। साथ ही उठान भी शुरू हो गए। सरकार द्वारा निर्धारित 17 फीसदी नमी की ढेरियां फिलहाल मंडियों में दस फीसदी भी नहीं हैं। लिहाजा मिलर्स ने अपने फार्मूले के हिसाब से धान मंडियों से उठाना शुरू किया है।

अधिकतर ढेरियों में 18 से 21 प्रतिशत तक नमी आ रही है। लिहाजा मिलर्स प्रति पॉइंट नमी पर 20 रुपए के हिसाब से कट लगाकर धान उठा रहे हैं। औसतन 18 से 20 प्रतिशत तक की नमी वाली ढेरी के किसान को 1900 रुपए प्रति क्विंटल का रेट दिया जा रहा है। वहीं 15 से 20 दिन से मंडी में परेशान किसान भी खुले तौर पर इस शोषण का विरोध नहीं कर पा रहा है।

अंदाजे से ही उठा रहे ढेरी- बिकी 1900 रुपए: बगथला निवासी किसान खुमन सिंह का कहना है, वह दस दिन से साढ़े चार एकड़ की धान मंडी में लेकर बैठा है। ढेरी पर कोई नमी की जांच नहीं हुई, अंदाजे से ही रेट लगाया गया, उसकी धान का रेट 1900 रुपए प्रति क्विंटल लगाया गया, न ही किसी ने मीटर से नमी चेक की। उसने भी नमी की जांच नहीं करवाई।

1920 रुपए का रेट मिला: बाहरी निवासी किसान रामकुमार का कहना है, वह दस एकड़ की धान पांच दिन से ब्रह्मसरोवर की पार्किंग में लेकर पहरा दे रहा है। बुधवार को उसकी धान की बोली 1920 रुपए लगाई गई। जिला खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता नियंत्रण केके गोयल ने बताया कि सरकार ने 17% तक नमी निर्धारित की है, निर्धारित समर्थन मूल्य 1960 पर ही धान की खरीद हो रही है। इस संबंध में उन्हें कोई शिकायत भी नहीं मिली है।

खबरें और भी हैं...