पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Kurukshetra
  • On Amavasya, The District Administration Did Not Allow Devotees To Take A Dip On The Brahmasarovar And The Embodied Lake, The Social Worker Washed The Bucket With Water And Washed It At The Gate, The Devotees Returned In Despair

आस्था से हो रहा खिलवाड़:अमावस्या पर जिला प्रशासन ने ब्रह्मसरोवर व सन्निहित सरोवर पर श्रद्धालुओं को नहीं लगाने दी डुबकी, समाजसेवी ने बाल्टी में पानी लेकर गेट पर ही धुलवाए हाथ, मायूस होकर लौटे श्रद्धालु

कुरुक्षेत्र3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमावस्या पर दूर-दराज से आए श्रद्धालु स्नान नहीं कर पाए। श्रद्धालुओं को बिना स्नान किए घरों की तरफ लाैटना पड़ा। ब्रह्मसरोवर में अमावस्या पर स्नान न किए जाने का मलाल श्रद्धालुओं के चेहरे पर साफ दिखाई दिया। गुस्साए श्रद्धालुओं ने प्रशासन को भी खूब सुनाई। श्रद्धालुओं ने कहा कि कोरोना के नाम पर अब हर जगह राजनीति हो रही है। श्रद्धालुओं ने कहा कि बसों में सरकार ने 52 सवारियों के बैठने की अनुमति दे दी है। होटल खुले हुए हैं।

बाजार खुले हुए हैं। बाजारों में रोजाना सैकड़ों की संख्या में लोगों का आना-जाना लगा रहता है। अब स्कूल भी खुल चुके हैं लेकिन ब्रह्मसरोवर को बंद करके श्रद्धालुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। श्रद्धालुओं ने कहा कि क्या कोरोना ब्रह्मसरोवर के पानी में नहाने से होता है। महिला रामवती देवी, उषा देवी, दुलारी व राजरानी ने कहा कि अगर सरकार को लोगों के स्वास्थ्य की इतनी फिकर है तो बसों में क्यों यात्रियों को ठूस-ठूस कर ले जाया जा रहा है। सिनेमा हॉल व शॉपिंग मॉल को क्यों नहीं बंद किया गया। शुक्रवार को अमावस्या पर स्नान करने के लिए आए श्रद्धालु स्नान के लिए इधर-उधर भटकते रहे।

शुक्रवार से होनी थी महाआरती लेकिन नहीं हो पाई

ब्रह्मसरोवर पर महाआरती का कार्यक्रम भी दो दिन के लिए टाल दिया गया। पहले प्रशासन ने गुरुवार को महाआरती कराने का फैसला लिया था। कोरोना के संक्रमण के चलते 18 मार्च को ब्रह्मसरोवर की महाआरती बंद कर दी थी। इसके साथ श्रद्धालुओं का भी आना-जाना बंद कर दिया था। पिछले दिनों ब्रह्मसरोवर को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया था लेकिन महाआरती बंद थी। केडीबी प्रशासन ने श्रद्धालुओं की मांग पर उच्चाधिकारियों से महाआरती की परमिशन मांगी थी। अधिकारियों ने बुधवार को महाआरती करने की परमिशन जारी कर दी थी लेकिन अमावस्या के चलते ब्रह्मसरोवर को बंद रखा गया।

मस्तान बाबा ने समझी लोगों की पीड़ा ब्रह्मसरोवर के पानी से धुलवाए हाथ

अमावस्या पर स्नान करने के लिए दूर-दराज से पहुंचे लोगों की पीड़ा को मस्तान बाबा ने कुछ हद तक कम किया। प्रशासन की सख्ती के चलते श्रद्धालु ब्रह्मसरोवर में स्नान तो नहीं कर पाए लेकिन मस्तान बाबा ने ब्रह्मसरोवर के पानी में श्रद्धालुओं के हाथ धुलवाए। ब्रह्मसरोवर के पानी में हाथ धोकर श्रद्धालुओं ने मस्तान बाबा का शुक्रिया किया। मस्तान बाबा ने कहा कि अमावस्या पर ब्रह्मसरोवर के पानी को शरीर पर लगाने का महत्व है। प्रशासन की सख्ती के चलते लोग मायूस होकर लोट रहे थे। उन्होंने ब्रह्मसरोवर से पानी लेकर लोगों के हाथ धुलवाने शुरू कर दिए।

श्रद्धालुओं की आस्था के साथ खिलवाड़

वैदिक ज्योतिष अनुसंधान के ज्योतिषाचार्य पंडित बृज मोहन भार्गव ने कहा कि ब्रह्मसरोवर को बंद कर प्रशासन श्रद्धालुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ कर रहा है। भार्गव ने कहा कि रोजाना ब्रह्मसरोवर पर सैकड़ों की संख्या में लोग घूमने आते हैं लेकिन अमावस्या पर ब्रह्मसरोवर को बंद कर दिया गया। अमावस्या पर स्नान करने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु धर्मनगरी में पहुंचे लेकिन स्नान नहीं कर पाए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें