प्रदेश स्तरीय कार्यशाला शुरू:कार्यशाला का थीम रहेगा आजादी का अमृत महोत्सव; कलाकार लिखेंगे 100 गीत

कुरुक्षेत्र4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डीसी मुकुल कुमार ने कहा कि सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के लोक कलाकारों की सरकार में अहम भूमिका रहती है। इन कलाकारों को सरकार की रीढ़ कहा है। इतना ही नहीं लोक कलाकारों को सरकार का फेस मास्क की संज्ञा भी दी जाती है। इसलिए इन लोक कलाकारों को हमेशा अपडेट रखने का प्रयास विभाग की तरफ से लगातार किया जा रहा है।

कुल कुमार सोमवार को कला कीर्ति भवन के सभागार में सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की तरफ से आजादी के अमृत महोत्सव के कार्यक्रमों की श्रृंखला में अम्बाला व हिसार मंडल के भजन पार्टी सदस्यों, प्रदेश के ड्रामा पार्टी के कलाकारों, खंड प्रचार कार्यकर्ताओं तथा आरसीटीओ ग्रुप चंडीगढ़ के कलाकारों की एक संयुक्त 4 दिवसीय कार्यशाला में बोल रहे थे।

इससे पहले मुकुल कुमार, जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी डॉ. नरेन्द्र सिंह, सेवानिवृत्त जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी तथा मास्टर ट्रेनर देवराज सिरोहीवाल ने रिबन काटकर और दीप शिखा प्रज्वलित करके विधिवत रूप से 4 दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन किया।

100 गीत लिखने का लक्ष्य
लोक कलाकारों के लिए 4 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया है। इसमें सरकार की उपलब्धियों और योजनाओं पर आधारित 100 नए गीत लिखने के लक्ष्य को पूरा करने भरसक प्रयास किया जाएगा। जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी डॉ. नरेन्द्र सिंह ने बताया कि सूचना जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित अग्रवाल के आदेशानुसार और अतिरिक्त निदेशक डॉ. कुलदीप सैनी के मार्गदर्शन में 4 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया है। कार्यशाला 17 मार्च तक चलेगी। इस कार्यशाला के पहले दिन मास्टर ट्रेनर देवराज सिरोहीवाल ने लोक कलाकारों को मंच संचालन और मंच की गरिमा को बनाए रखने के विषय को लेकर बारीकी से जानकारी दी। बताया कि एक कलाकार किस प्रकार मंच का कुशल संचालन कर सकता है।

खबरें और भी हैं...