कोरोना काल / कोरोना काल में अलग तरह से शोध करने की जरूरत है: प्रो. जगबीर

X

  • केयू में दो दिवसीय राष्ट्रीय ऑनलाइन सम्मेलन शुरू
  • पंजाब यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने जेंडर एंड क्लाइमेट चेंज एडॉप्टेशन विषय पर किया व्याख्यान

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

कुरुक्षेत्र. कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी के जूलोजी विभाग व कॉरपोरेट सेंटर रूसा की ओर से सोमवार को जूलोजिकल साइंस में कोरोना के बाद अवसर और चुनौतियां विषय पर दो दिवसीय ऑनलाइन सम्मेलन आयोजित किया गया। पंजाब यूनिवर्सिटी पटियाला के प्रो. जगबीर सिंह ने जेंडर एंड क्लाइमेट चेंज एडॉप्टेशन विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि विश्व को कोरोना के साथ-साथ उत्पन्न हुई विषम परिस्थितियों में सामाजिक, वैज्ञानिक क्षेत्रों में अलग तरह से शोध करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में समाज को वैज्ञानिकों से बहुत आशाएं हैं।

हम अपने शोध के जरिए इस महामारी से निपटने के लिए उपाय खोजकर विश्व को बेहतर परिणाम देकर इस महामारी को दूर करने में सहयोग कर सकते हैं। दूसरे सत्र में सीबीएलयू भिवानी की डीन ऑफ लाइफ साइंस प्रो. ललिता गुप्ता ने कहा कि कोरोना को हम चुनौतियों के साथ-साथ अवसर में भी बदल सकते हैं। हमें कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से डरने की बजाय वैज्ञानिक सोच के साथ इसके समाधान निकालने होंगे। कार्यक्रम की संयोजक व विभागाध्यक्षा डॉ. अनिता भटनागर ने सभी का स्वागत किया। आयोजन सचिव डॉ. दीपक राय ने प्रो. जगबीर सिंह व प्रो. ललिता गुप्ता का आभार जताया।

सेमिनार के दूसरे दिन मंगलवार को सुबह 11 बजे रावेनशा यूनिवर्सिटी कटक उड़ीसा के कुलपति प्रो. इशान के पात्रों अपना व्याख्यान देंगे व पीएयू लुधियाना से प्रो. एसएस हुंडल दोपहर 12 बजे व्याख्यान देंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना