नप में दिनभर लाइन में लगने से मिलेगी निजात:प्रॉपर्टी असेस्मेंट नोटिस में त्रुटियां दुरुस्ती के लिए सोमवार से टोकन सिस्टम होगा लागू, रोजाना जारी किए जाएंगे 100 टोकन

कुरुक्षेत्र14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टोकन लेकर तय समय पर ही आकर लोग करा सकेंगे ऑब्जेक्शन दुरुस्त

प्रॉपर्टी असेस्मेंट नोटिस बंटने के बाद नगर परिषद में त्रुटियां दुरुस्त करने को लेकर लोगों को दिनभर लाइनों में लगना पड़ रहा है। वहीं अब आमजन की सहूलियत को देखते हुए असेस्मेंट नोटिस की त्रुटियां दुरुस्ती में सोमवार से टोकन सिस्टम लागू होगा। टोकन सिस्टम लागू होने से लोगों को राहत मिलेगी। टोकन देते वक्त बाकायदा यह भी बताया जाएगा कि उनका नंबर किस समय आएगा।

लिहाजा लोग टोकन लेने के बाद उसी समय अपने कामकाज के लिए आ सकेंगे। वहीं लोग घर बैठे ऑनलाइन भी अपने ऑब्जेक्शन पीएमएस हरियाणा वेबसाइट पर ऑनलाइन दस्तावेज अपलोड करवा सकते हैं। ऑनलाइन ऑब्जेक्शन मिलने के 30 दिन के अंदर रिकॉर्ड दुरुस्त कर दोबारा वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा।
रोजाना जारी होंगे 100 टोकन, समय भी बताया जाएगा:

प्रॉपर्टी असेस्मेंट नोटिस बांट रही कंपनी के सुपरवाइजर रोहन बिष्ट ने बताया कि विधायक सुभाष सुधा के निर्देशानुसार लोगों की परेशानी न हो इसलिए ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है। सुबह 10 से 11 बजे तक रोजाना 100 टोकन जारी किए जाएंगे। टोकन जारी करते वक्त लोगों को उनका नंबर किस समय आएगा, यह भी बताया जाएगा। ताकि दिनभर लाइन में लगकर इंतजार करने की बजाए टोकन लेकर तय समय पर ही अपने कामकाज के लिए लोग आ सकें।
घर बैठे भी दे सकते हैं ऑब्जेक्शन, 30 दिन में दूर होगी त्रुटि:

यासी कंसलटेंसी के सिविल इंजीनियर हुकम सिंह ने बताया कि प्रॉपर्टी असेस्मेंट बिल में किसी तरह की त्रुटि मसलन नाम, मोबाइल नंबर, पता, एरिया आदि गलत होने पर लोग पीएमएस हरियाणा डॉट कॉम वेबसाइट पर जाकर अपनी पुरानी या नई प्रॉपर्टी आईडी डालकर प्रॉपर्टीधारक अपनी डिटेल चेक कर सकते हैं। साथ ही किसी तरह की त्रुटि होने पर अपने दस्तावेज अपलोड कर ऑब्जेक्शन लगा सकते हैं।

किसी तरह की अपडेशन के लिए प्रॉपर्टी का मालिकाना संबंधी दस्तावेज और पुराने टैक्स की रसीद, फैमिली आईडी, प्रॉपर्टी मालिक का आधार कार्ड अपलोड करना होगा। 30 दिन में ऑनलाइन मिले ऑब्जेक्शन को दुरुस्त कर आपकी प्रॉपर्टी की डिटेल पीएमएस हरियाणा डॉट कॉम वेबसाइट पर ही अपलोड कर दी जाएगी।
न दें गलत जानकारी, नहीं ताे बाद में बनेगी परेशानी
वहीं कुछ लोग असेस्मेंट नोटिस में गलत मोबाइल नंबर भी दर्ज करा रहे हैं जिसके कारण भविष्य में लोगों को परेशानी सामने आएगी। मसलन घर बैठे रिकॉर्ड जांचने के दौरान दिए गए मोबाइल नंबर पर ही ओटीपी आएगा, उसके हिसाब से ही आपका रिकॉर्ड वेबसाइट पर खुलेगा। मोबाइल नंबर गलत होने पर लोग खुद अपना ऑनलाइन रिकॉर्ड तक नहीं जांच पाएंगे।
आईकार्ड जारी किए हैं, उन्हें जांचकर करें सहयोग:

नगर परिषद के ईओ बलबीर रोहिला का कहना है कि नगर परिषद की और से संबंधित कंपनी को प्रॉपर्टी असेस्मेंट नोटिस बांटने का काम दिया गया है। कंपनी की ओर से जो कर्मचारी सर्वे में लगाए गए हैं, कंपनी के आईकार्ड पर नप की भी वेरिफिकेशन की गई है। किसी भी शहरवासी को किसी तरह की शंका होने पर संबंधित कर्मचारी का आईकार्ड जांच सकते हैं। लोगों से प्रॉपर्टी असेस्मेंट नोटिस लेने में सहयोग की अपील की।

खबरें और भी हैं...