पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फॉरेन मीडिया मीट कार्यक्रम:केयू में कोरोना टीके की सार्वभौमिक पहुंच पर प्रो. बीके ने कहा- वैक्सीन की सभी तक हो पहुंच

कुरुक्षेत्र2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद के चेयरमैन प्रो. बीके कुठियाला ने कहा कि इस समय पूरा विश्व कोरोना से जूझ रहा है। इससे निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर एक साथ मिलकर लड़ने की जरूरत है। कई देशों के पास वैक्सीन का पर्याप्त भंडार है तो कई देशों के पास कमी है। हमें एक-दूसरे का सहयोग कर जीवन रक्षक दवा की पहुंच सभी तक करने की जरूरत है। मानवता सुरक्षित रहे यही हमारा प्रयास रहना चाहिए।

वे शुक्रवार को टीके और दवा तक सार्वभौमिक पहुंच पर आयोजित फॉरेन मीडिया मीट कार्यक्रम की अध्यक्षता में कही। प्रो. कुठियाला ने कहा कि इस अभियान को और ज्यादा तेज करने में मीडिया की अहम भूमिका रही है। उन्होंने मीडिया से आह्वान किया कि वे साइंटिफिक तरीके से सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर दी जा रही गलत जानकारियों का खंडन करें। ताकि लोगों में ज्यादा से ज्यादा इस महामारी के प्रति जागरूकता पैदा की जा सके। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सल एक्सेस वैक्सीनेशन एंड मेडिसन अभियान के तहत विश्व व्यापार संगठन की अपील पर 1.4 मिलियन लोगों सहित 2000 से अधिक बुद्धिजीवी एवं शिक्षाविद् लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएडा के कुलपति एवं यूनिवर्सल एक्सेस ऑफ वैक्सीनेशन एंड मेडिसन के प्रमुख प्रो. भगवती प्रकाश शर्मा ने कहा कि कोरोना के कारण संपूर्ण विश्व प्रभावित हुआ है। कोरोना दवा के पेटेंट होने के कारण यह महंगी है। गरीब देशों की पहुंच इन दवा तक नहीं है। उन्होंने बताया कि गरीब देशों में केवल एक प्रतिशत जनसंख्या तक ही वैक्सीनेशन की पहुंच है।

सीजीबीएस हावर्ड विश्वविद्यालय के निदेशक प्रो. नरेंद्र रस्तोगी ने कहा कि कोरोना वायरस इस समय खतरनाक रूप में है। कोरोना के केसों में कमी आई है लेकिन दिन प्रतिदिन इसके नए रूप सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आनी बाकी है। इस ऑनलाइन कार्यक्रम में कश्मीरी लाल, सतीश कुमार, सीबीएलयू भिवानी के कुलपति प्रो. राजकुमार मित्तल, मेजर जर्नल डॉ. राजन कोचर और डॉ. धनपत राम अग्रवाल मौजूद रहे।

कोरोना टीके को पेटेंट मुक्त करने का अभियान तेज
केयू कुलपति प्रो. सोमनाथ ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए सभी का टीकाकरण जरूरी है। कोरोना से जूझ रहे विश्व को कोविड टीका व अन्य औषधियों को पेटेंट मुक्त करने का अभियान अब गति पकड़ने लगा है। इस मांग के पूरा होने से कोविड से संबंधित दवा को न केवल चंद कंपनियों के एकाधिकार से मुक्ति मिलेगी बल्कि आम आदमी को ये दवा सस्ती भी मिल सकेंगी।

खबरें और भी हैं...