पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बार चुनाव:राजीव निर्विरोध नारायणगढ़ बार एसो. के प्रधान बने, सुनील उपप्रधान व सुभाष सहसचिव बने

नारायणगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नारायणगढ़ बार एसोसिएशन के चुनाव में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव निर्विरोध चुने जाने के बाद वकीलों ने हार पहनाकर अभिनंदन किया।
  • सचिव पद पर राजीव और नरेश के बीच होगा मुकाबला

एडवोकेट राजीव सिंह सर्वसम्मति से नारायणगढ़ बार एसोसिएशन के प्रधान बन गए हैं। उनके मुकाबले में किसी ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। इसी तरह सुनील कुमार आर्य को उपप्रधान और सुभाष चंद कलोहा को संयुक्त सचिव चुना गया। सचिव पद के लिए राजीव मोमिया और नरेश डढवाल मैदान में हैं। जरूरत पड़ने पर 6 नवंबर को वोटिंग होगी। बार में 240 वोटर हैं। 6 नवंबर को होने वाले बार के चुनाव में नामांकन दाखिल करने के लिए सोमवार और मंगलवार का दिन तय किया गया था। सोमवार को किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन नहीं किया। मंगलवार को प्रधान पद के लिए सीनियर एडवोकेट राजीव सिंह, उप प्रधान के लिए सुनील आर्य और संयुक्त सचिव के लिए सुभाष चंद ने नामांकन किया। शाम चार बजे तक इनके मुकाबले किसी ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। जिसके चलते तीनों निर्विरोध चुने गए। बुधवार को नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख है। इसके बाद ही चुनाव प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा। बार के वकीलों ने बताया कि 2009 में पहली बार सर्वसम्मति से कार्यकारिणी बनी थी। इसके बाद 2014 में सर्वसम्मति से प्रधान चुना गया था। अब पांच साल के बाद एक बार फिर वही संयोग बना है। उल्लेखनीय है कि प्रधान बने राजीव सिंह गांव बरौली के रहने वाले है। वर्ष 2002 से प्रेक्टिस कर रहे हैं। 2009 में सचिव पद पर रह चुके हैं। पत्नी सिन्दरजीत कौर हाईकोर्ट में वकालत करती हैं। राजीव के पिता जयपाल सिंह ब्लॉक समिति के 2000 से 2004 तक चेयरमैन रहे। 2010 से प्रेक्टिस कर रहे सुनील आर्य भारांपुर के हैं। संयुक्त सुभाष चंद कलोहा गांव धनाना के रहने वाले है। 2012 से वकालत कर रहे हैं। पिता केहर सिंह आर्मी से कैप्टन रिटायर हैं और गांव के सरपंच हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें