घर वापसी / करनाल से कैंट रेलवे स्टेशन पर पहुंचे 1607 प्रवासी श्रमिकों काे स्पेशल ट्रेन से बराैनी भेजा

अम्बाला | कैंट रेलवे स्टेशन पर मजदूराें के बच्चाें काे खिलाैने देते सीअाईडी चीफ अनिल राव। अम्बाला | कैंट रेलवे स्टेशन पर मजदूराें के बच्चाें काे खिलाैने देते सीअाईडी चीफ अनिल राव।
X
अम्बाला | कैंट रेलवे स्टेशन पर मजदूराें के बच्चाें काे खिलाैने देते सीअाईडी चीफ अनिल राव।अम्बाला | कैंट रेलवे स्टेशन पर मजदूराें के बच्चाें काे खिलाैने देते सीअाईडी चीफ अनिल राव।

  • तालियां बजाकर जाहिर की घर जाने की खुशी, प्रशासन ने नि:शुल्क टिकट के साथ पानी की बोतलें, मास्क व सेनिटाइजर दिए

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

अम्बाला. करनाल से रोडवेज बसों के माध्यम से शनिवार काे कैंट रेलवे स्टेशन पर पहुंचे 1607 प्रवासी श्रमिकों को एडीजीपी सीआईडी अनिल राव व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने प्लेटफार्म नंबर 3 से स्पेशल ट्रेन के माध्यम से बरौनी के लिए रवाना किया। प्रवासी श्रमिकों ने भारत माता की जय व वंदे मातरम के नारों के साथ तालियां बजाकर घर जाने की खुशी जाहिर की। श्रमिकों के साथ रवाना होने वाले बच्चों को खिलौने व बिस्कुट दिए गए।
एडीजीपी अनिल राव ने प्रवासी श्रमिकों से बातचीत भी की और उन्हें उनके घर भेजने पर बधाई दी। उपमंडल घरौंडा के एसडीएम गौरव कुमार ने बताया कि 1607 प्रवासी श्रमिकों को सुबह बसों के माध्यम से अम्बाला कैंट लाया गया। इनमें 24 बच्चे भी शामिल हैं जिन्हें उनके गृह जिले बरौनी भेजने का काम किया है। करनाल प्रशासन ने प्रवासी श्रमिकों को नि:शुल्क टिकट के साथ पानी की बोतलें, मास्क व सेनिटाइजर भी उपलब्ध करवाए।

बराड़ा उपमंडल से 44 लोग मध्यप्रदेश व 130 लोग उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हुए

बराड़ा उपमंडल के अधीन आने वाले शेल्टर होम से शनिवार को एक बस में 44 प्रवासी लोग मध्यप्रदेश के लिए रवाना किए गए। 130 प्रवासी लोगों को उत्तरप्रदेश के लिए रवाना किया गया। आर्य स्कूल मुलाना से 44 लोग मध्यप्रदेश के लिए व 47 लोग उत्तरप्रदेश के लिए व रविदास आश्रम से 83 लोग उत्तरप्रदेश के लिए रवाना हुए। बराड़ा उपमंडल के अधीन आने वाले शेल्टर होम में अभी भी 921 लोग ठहरे हुए हैं। जिसमें से 731 लोग बिहार के हैं। 70 लोग मध्यप्रदेश, 33 लोग उत्तरप्रदेश, 55 लोग वेस्ट बंगाल, 30 लोग झारखंड, 1 नेपाल व 1 प्रवासी उत्तराखंड से हैं।

नारायणगढ़ व शहजादपुर से बसों से उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश भेजे प्रवासी मजदूर
प्रवासी श्रमिक हंसी-खुशी से शनिवार को अपने गांव की ओर रवाना हुए। इन श्रमिकों को इनके गृह राज्य भेजने के लिए प्रशासन द्वारा हरियाणा रोडवेज की बसों की व्यवस्था की गई थी। राधा स्वामी सत्संग ब्यास सेंटर नारायणगढ़ से 198 प्रवासी श्रमिक उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में स्थित अपने घरों की ओर रवाना हुए। इसी प्रकार शहजादपुर राधा स्वामी सत्संग ब्यास सेंटर से 72 श्रमिक ग्वालियर (मध्य प्रदेश) के लिए रवाना हुए। एसडीएम अदिति ने बताया कि प्रवासी श्रमिकों को यहां राधा स्वामी सत्संग ब्यास सेंटर में अस्थाई शेल्टर होम में ठहराव के दौरान बताया गया कि वे अपने घर जाकर भी सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें और हैंडवाश, सेनिटाइजर का प्रयोग करें। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने प्रवासी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के अलावा मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट भी दिया। श्रमिकों के हाथ सेनिटाइज करवाने के अलावा उनका सामान भी सेनिटाइज किया गया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना