अम्बाला / लॉकडाउन में फीनिक्स क्लब से निकली स्कॉच व बीयर की 3 पेटी, हल्ला हुआ तो कैशियर 2 पेटी गेट पर छोड़ गया

3 boxes of scotch and beer left from Phoenix club in lockdown;
X
3 boxes of scotch and beer left from Phoenix club in lockdown;

  • बार मैन की शिकायत पर कैशियर विशाल गोयल पर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट, एक्साइज एक्ट में केस दर्ज

दैनिक भास्कर

Apr 11, 2020, 06:46 AM IST

अम्बाला . कोरोना संकट के चले लॉकडाउन और शराब बंदी के बीच सेंट्रल फीनिक्स क्लब से स्कॉच की 2 पेटी और 1 पेटी बीयर की निकल गई। यह चर्चा क्लब के सदस्यों के कानों तक पहुंची तो हल्ला हो गया। बात बढ़ी तो वीरवार को रात के अंधेरे में चुपचाप क्लब गेट के सामने स्कॉच की 2 पेटी यूं ही छोड़ दी गई। इनमें दो बोतल कम थी। 
क्लब पदाधिकारियों की जानकारी में मामला आने के बाद अब क्लब के बार मैन दलीप सिंह ने क्लब के कैशियर विशाल गोयल के खिलाफ कैंट थाने में केस दर्ज करवा दिया है। गोयल पर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट, एक्साइज एक्ट समेत 5 धाराएं लगी हैं। खास बात यह है कि दर्ज मामले में क्लब से शराब निकलवाने का तो जिक्र नहीं लेकिन कैशियर द्वारा 2 पेटी स्कॉच की क्लब परिसर पर वापस छोड़ने की जानकारी दी गई है। बता दें कि जिस ब्रांच की स्कॉच है, उसकी एक पेटी की कीमत करीब 14 से 15 हजार रुपए है। 


धारा 144 तोड़ने और संक्रमण का खतरा बढ़ाने की धाराएं भी लगाई | विशाय गोयल पर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट की धारा 51, एक्साइज एक्ट व धारा 144 तोड़ने की आईपीसी की धारा 188 के अलावा आईपीसी की धारा 269 व 270 धारा भी लगाई है। धारा 269 के मुताबिक कोई व्यक्ति कानून के खिलाफ जाकर या नियमों की अवहेलना कर ऐसा कोई काम करेगा जिससे कि किसी संक्रमण या बीमारी से जनता के जीवन के लिए संकट खड़ा हो सकता है या रोग का संक्रमण का फैलने की संभावना हो। धारा 270 के मुताबिक किसी द्वेषपूर्ण कार्य से जिससे किसी के जीवन के लिए संकट खड़ा हो और रोग के फैलने की संभावना बढ़ जाए। इन धाराओं में 6 माह से 2 साल तक की सजा व जुर्माना हो सकता है। 

 एफआईआर में शिकायत दी 
वीरवार रात करीब 8:30 पर क्लब के क्लब के कैशियर विशाल गोयल अपनी गाड़ी में आए। विशाल ने मुझे (बार मैन) को कहा कि उनकी गाड़ी से दो पेटी शराब की निकाल अंदर रख ले। मैंने मना किया तो कैशियर ने कहा कि वह इस संबंध में क्लब सदस्यों से खुद बात कर लेंगे। इसके बाद वह 2 पेटियां छोड़ वहां से चले गए। दोनों पेटियों में 1-1 बोतल कम मिली। मैंने मामले की जानकारी क्लब के चेयरमैन राकेश अग्रवाल, सचिव व बार इंचार्ज को सूचित कर दिया।  -जैसा बार मैन दलीप सिंह ने शिकायत में कहा  

 मेरे खिलाफ रचा गया षड्यंत्र 
मेरे खिलाफ किसी द्वारा षड्यंत्र रचा जा रहा है। कोरोना वायरस के दौरान मैं फील्ड में एक्टिव था। मेरे खिलाफ जो आरोप लगे हैं वह पूरी तरह से निराधार हैं। 
विशाल गोयल, कैशियर, सेंट्रल फीनिक्स क्लब

 बार मैन दलीप सिंह से सीधी बात 

  • शराब क्लब से कब लेकर गए थे? 
  • 3-4 तारीख को ले गए थे, 2 पेटी शराब और 1 बीयर की। 
  • वापस कितनी पेटी रख गए? 
  • एक पेटी व 10 बोतल वापस आई, बीयर की पेटी वापस नहीं आई 
  • जब शराब लेकर गए किसने गाड़ी में रखवाई? 
  • गाड़ी में मैने और एक लड़के ने रखवाई थी।
  • बार का चार्ज आपके पास है, तब क्यों मना नहीं किया? 
  • कैशियर साहब हैं, मैं कैसे मना कर सकता हूं, उन्होंने कहा बिल बाद में बना लेंगे।
  • मगर क्लब तो पिछले दिनों बंद था, बंद क्लब में से कैसे ले गए शराब?
  • सर, उस दिन हमें तनख्वाह मिलनी थी, वह साइन करने आए थे क्लब में।

 नियम: क्लब में बार का परमिट, बाहर नहीं ले जा सकता कोई शराब 
क्लब को एक्साइज विभाग द्वारा बार का परमिट दिया जाता है। इसके लिए क्लब वार्षिक फीस भी अदा करता है। नियम है कि केवल क्लब परिसर में ही शराब सदस्यों या गेस्ट को दी जा सकती है। क्लब से बाहर शराब को ले जाना नियमों के विपरीत है। 


 निलंबित तक हो सकती सदस्यता 
क्लब नियमों के विपरीत क्लब परिसर से शराब अवैध तरीके से निकालने और फिर वापस छोड़ने के मामले में यदि आरोप साबित होते हैं तो क्लब सदस्यता तक निलंबित हो सकती है। क्लब के चेयरमैन राकेश अग्रवाल ने कहा कि मामले को लेकर जल्द ही क्लब टीम की मीटिंग बुलाई जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना