पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • 40 Thousand Cheated In The Name Of GST And TDS To Get Loan, Then Get 15 Thousand More Removed By Downloading The App

फार्मा कंपनी के एग्जिक्यूटिव से हुई ठगी:लाेन दिलाने के लिए जीएसटी और टीडीएस के नाम पर 40 हजार ठगे, फिर एप डाउनलाेड करवा 15 हजार और निकाले

अम्बाला21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • साेशल मीडिया पर लाेन संबंधी पाेस्ट चेक की ताे आया था फाेन

बजाज फाइनेंस कंपनी के नाम पर बोह रोड पर आनंद नगर ए निवासी शुभम कुमार से 55 हजार रुपए की धोखाधड़ी हो गई। इसकी शिकायत पर महेश नगर पुलिस ने शनिवार रात को केस दर्ज किया है। शुभम ने बताया कि उसे पैसे की जरूरत थी। उसने साेशल मीडिया पर बजाज फाइनेंस कंपनी की लोन से संबंधित पोस्ट चेक की तो 5 मिनट में उसके पास कॉल आ गई। उसने 9 जुलाई को लोन लेने के लिए आवेदन किया। उसके पास फिर फोन आया, जिसने खुद को बजाज फाइनेंस कंपनी से बताया और ओर दस्तावेज मांगे।

फार्मा कंपनी में एग्जिक्यूटिव शुभम ने बताया कि बजाज फाइनेंस कर्मी बने ठग ने दस्तावेज देखने के बाद उसे जल्द ही लोन होने का आश्वासन दिया। इसके बाद शुभम के मोबाइल पर मैसेज आया, जिसमें जानकारी दी गई कि उसके बैंक अकाउंट में लोन का पैसा क्रेडिट हो गया है। साथ ही बताया गया था कि बजाज फाइनेंस की ओर से जो लोन का पैसा भेजा गया है उसे बैंक ने रोक लिया है, इसके लिए शुभम को पहले जीएसटी की रकम जमा करानी होगी। बाद में जब फाइनेंस बैंक कर्मी से बात की तो उसने जीएसटी की रकम रिफंड होने की बात कही।

लेकिन बात यहीं खत्म नहीं हुई और कुछ समय के बाद उसके पास दूसरा मैसेज आया, जिसमें अकाउंट में लोन का पैसा ट्रांसफर करने की बात कही गई और बताया गया कि बैंक और आरबीआई ने इस बार भी उनकी लोन के अमाउंट होल्ड कर ली है, इसलिए शुभम से टीडीएस मांगा गया। जीएसटी व टीडीएस का पैसा रिफंड होने का आश्वासन मिलने पर शुभम ने 40 हजार रुपए ठगों के बताए बैंक अकाउंट में जमा करा दिया। कुछ समय बाद शुभम के पास फिर एक ओर एनओसी को लेकर नया मैसेज आया। शुभम ने आराेपी को फोन कर कहा कि वह एनओसी के नाम पर 18 हजार 500 रुपए नहीं देगा।

शुभम ने लोन न लेने की बात कहते हुए अपने 40 हजार रुपए की रकम वापस मांगी, लेकिन आराेपी ने पैसा देने से मना कर दिया। इसके बाद वह बजाज फाइनेंस के ऑफिस में गया ताे उसे पता चला कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। शुभम ने ठगों से फिर बात की ताे उसे कहा गया कि जल्द ही लिया गया सारा पैसा रिफंड कर दिया जाएगा। इसके लिए आपको एक एप डाउनलोड करनी होगी।

ठगों ने शुभम के मोबाइल में पहले एनिडेस्क एप डाउनलोड कराई और फिर ठगों ने शुभम के मोबाइल को कंट्रोल में लेकर उसमें मोबिक्विक एप डाउनलोड की। एप चलने के बाद ही पैसा आने का झूठा आश्वासन दिया गया। इसके बाद कैंसिलेशन के नाम पर 6 हजार रुपए जमा करा लिए गए। एप इंस्टॉल होने के 5 मिनट बाद शुभम के अकाउंट से ठगों ने 9 हजार रुपए ऑनलाइन किसी दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर लिए। महेश नगर पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...