बिल अटके / जिले की 3 नप का 50 करोड़ का बजट अटकने से सफाई-स्ट्रीट लाइट की मरम्मत के बिल लटके

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

अम्बाला. अप्रैल में अम्बाला कैंट, नारायणगढ़ और बराड़ा नगर परिषद की ओर से तैयार किए गए 60 करोड़ के बजट को मंजूरी नहीं मिल पाई है। तीनों नगर परिषद ने डीसी के पास बजट मंजूरी की फाइल को भेजा था, जहां से अप्रूवल के बाद मामला मंडल कमिश्नर अम्बाला के पास पहुंच गया है, लेकिन यहां से बजट अभी फाइनल होना है। इसलिए बजट के अभाव में नप में होने वाले मरम्मत के साथ-साथ अन्य जरूरी कामों के बिल लटक गए हैं, जिनमें सफाई ब्रांच के साथ-साथ इलेक्ट्रीशियन ब्रांच के बिल भी शामिल हैं।

नगर परिषद कैंट की बात करें तो जुलाई 2019 में नगर निगम अम्बाला से नगर निगम सदर जोन के क्षेत्र को भंग कर इसे नगर परिषद बना दिया था। नगर परिषद ने अगले वित्त वर्ष 2020-21 में 40 करोड़ की इनकम जनरेट करने की बात कही और साढ़े 39 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान लगाया। इसी प्रकार 8 अगस्त 1966 में नगर परिषद बने नारायणगढ़ ने 5.84 करोड़ की इनकम और 5.82 करोड़ खर्च होने का अनुमान बताया है।

नया वित्त वर्ष शुरू, इसलिए पैसा खर्च नहीं कर सकते

नया वित्त वर्ष शुरू हो गया है। नगर परिषद के बजट को पहले डीसी मंजूरी देते हैं, उसके बाद मंडल कमिश्नर अम्बाला मंजूरी देंगी। इसलिए अप्रैल के पहले सप्ताह में तीनों नगर परिषद अपना अनुमानित बजट डीसी को दे चुके हैं जिसे मंजूरी भी मिल चुकी है। चूंकि कोविड-19 चल रहा है इसलिए बजट अटक गया है। अब नगर परिषद अपनी इनकम से न तो पैसा खर्च कर पा रहे हैं और डीसी ने खर्च करने की अनुमति दी है। यदि नगर परिषद पैसा खर्च करते हैं तो वह पुराने वित्त वर्ष में माना जाएगा। इसलिए नगर परिषदों ने अपने खर्च पर रोक लगा दी है।

कैंट में इलेक्ट्रीसिटी ब्रांच के 5 लाख के बिल रुके, स्ट्रीट लाइट की मरम्मत कराने में दिक्कत
कैंट में इलेक्ट्रिसिटी ब्रांच के फरवरी अाैर मार्च के 5 लाख रुपए के बिल हैं जो रुके हुए हैं। ब्रांच को स्ट्रीट लाइट की मरम्मत कराने में दिक्कत आ रही है। इसी प्रकार 7 लाख के बिल लटके हाेने से सफाई ब्रांच की मशीनरी की मरम्मत और अन्य वर्क कराने में दिक्कतें आ रही हैं। 

^ हमने बजट बनाकर भेजा हुआ है, अब देखना यह है कि नप कैंट को कितना बजट मिलता है। उसी के मुताबिक नए वित्त वर्ष की तैयारी की जाएगी। अभी हम नप की आमदनी में से पैसा खर्च नहीं कर पा रहे हैं, इसलिए बिल पेंडिंग पड़े हैं। एक महीने के हमारे 20 से 30 लाख के बिल पेंडिंग हो सकते हैं।
राजेश कुमार, सचिव, नगर परिषद अम्बाला।

रेंट ब्रांच ने 6 माह में 1.35 करोड़ किराया वसूला

जुलाई में नगर परिषद के गठन के बाद कैंट ने अपनी 938 दुकानों के साथ-साथ लाइसेंस धारकाें से 1.35 करोड़ रुपए वसूले हैं। यह किराया सितंबर 2019 से मार्च 2020 तक का है और अभी भी करीब 2 करोड़ रुपए किरायेदारों पर पेंडिंग हैं। कुछ डिफाल्टर किरायेदार ऐसे हैं जो न तो किराया दे रहे हैं और न ही दुकान से कब्जा छाेड़ रहे हैं। नगर परिषद ने ऐसे डिफाल्टर किरायेदारों की दुकानों की सीलिंग की कार्रवाई कोविड-19 के चलते रोकी हुई है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना