• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • 8.50 Lakh Was Grabbed In The Name Of Sending It To Greece Sent To Turkey, Held Hostage For 5 Months, Harassed Mentally And Physically, Case Registered

ग्रीस भेजने के नाम पर हड़पे 8.50 लाख:तुर्की भेजकर 5 महीने बनाया बंधक; मानसिक-शारीरिक प्रताड़ना भी दी, केस दर्ज

अंबाला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

हरियाणा के अंबाला जिले में ग्रीस भेजने के नाम पर 8 लाख 50 हजार रुपए हड़पने का मामला सामने आया है। युवक को ग्रीस की जगह तुर्की भेजा गया। वहां युवक को 5 महीने तक बंधक बनाकर मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया गया। युवक के पिता ने हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज के समक्ष आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की गुहार लगाई है।

जल्द अमीर बनने का सपना दिखाया

अंबाला के गांव साहा माजरी निवासी रोशन लाल ने बताया कि उसके 23 वर्षीय बेटे सूरज को जगाधरी वर्कशॉप जिला यमुनानगर निवासी रामबुल व उसकी पत्नी ने बातों में फंसाकर जल्द अमीर बनने का सपना दिखाया और ग्रीस भेजने की बात कही थी। आरोपियों ने सूरज का वीजा लगवाकर 8 लाख 50 हजार रुपए लिए और उन्होंने साउथ कोरिया में रह रहे अपने दोस्त विजय कुमार व उसकी पत्नी निवासी गांव इंद्री जिला करनाल से उनकी बात करवाई।

ग्रीस की जगह भेजा तुर्की, यहां मनाया 5 माह बंधक

रोशन लाल ने बताया कि रामबुल और उसकी पत्नी ने कहा था कि वे उसके बेटे को ग्रीस भेज देंगे, लेकिन उन्होंने सूरज को ग्रीस न भेजकर धोखे से तुर्की भेज दिया। यहां से सूरज को विजय कुमार डौंकी के रास्ते ग्रीस ले जाना चाहता था, लेकिन कामयाब नहीं हुआ। आरोप लगाया कि यहां सूरज को 5 महीने तक बंधक बनाकर रखा। वहां न भरपेट खाना दिया और न मजदूरी। देर रात तक काम कराता था।

तुर्की में रह रहे भारतीय की मदद से वापस आया सूरज

शिकायतकर्ता ने बताया कि सूरज को वापस भारत लाने के लिए उन्होंने तुर्की में रह रहे एक भारतीय से संपर्क किया। उसकी मदद से बेटे को आरोपियों के चंगुल से बाहर निकाला। इसमें उनके डेढ़ लाख रुपए खर्च हो गए। बताया कि जब उसने आरोपी रामबुल से बात की तो उसने अपनी साली मंजू से मुलाकात कराई, जो पेशे से वकील है। मंजू ने उसे केस में फसाने की धमकी दी।

पुलिस ने किया केस दर्ज

पुलिस ने शिकायत के आधार पर रामबुल और विजय कुमार के खिलाफ धारा 406, 420, 506 व 24 इमिग्रेशन एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है।