थर्ड डिग्री टॉर्चर से मौत का आरोप:युवक को थर्ड डिग्री टॉर्चर देने के बाद मौत का आरोप, एएसआई समेत 4 के खिलाफ केस दर्ज

अम्बाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11 महीने बाद कोर्ट के आदेश पर आरोपियों के खिलाफ धारा 120बी व 304 के तहत किया मामला दर्ज

फूलो देवी ने साहा थाने में तैनात एएसअाई ऋषिपाल, गांव समलेहड़ी के काला नंबरदार, शीला फौजी उर्फ वेद व्यास व अमित राणा पर उसके बेटे पवन को थर्ड डिग्री टॉर्चर देने का आरोप लगाया।

आरोप है कि इस वजह से उसके बेटे की मौत हुई।

मामला कोर्ट में विचाराधीन है। साहा थाना पुलिस ने करीब 11 महीने बाद अब कोर्ट के आदेश पर आरोपियों के खिलाफ धारा 120बी व 304 के तहत केस दर्ज किया है।

शिकायत में फूलो देवी ने बताया कि 29 दिसंबर 2021 को गांव के शीला फौजी व काला नंबरदार ने मिलीभगत कर पवन के खिलाफ साहा पुलिस थाने में झूठी शिकायत दी थी। एएसअाई ऋषिपाल बेटे पवन को जबरदस्ती थाने ले गया। यहां बिना गिरफ्तारी दिखाए पवन को 2 दिन तक थर्ड डिग्री टॉर्चर किया। महिला का आरोप है कि एएसअाई ने उसके बेटे के प्राइवेट पार्ट के साथ-साथ शरीर के कई हिस्सों पर चोटें पहुंचाई। 29 दिसंबर की शाम तक उसके बेटे को रिहा नहीं किया।

उसी रात साढ़े 9 बजे उसका छोटा बेटा गांव के सरपंच के साथ पुलिस थाने गया था। यहां सरपंच के अनुरोध पर एएसअाई ऋषिपाल ने पवन को रिहा कर दिया।

फूलो देवी ने बताया कि एएसअाई ने अगली सुबह 9 बजे तक पेश करने की शर्त पर उसके बेटे को छोड़ा था। घर आने के बाद पवन ने आपबीती सुनाई थी।

पवन ने बताया था कि एएसअाई ऋषिपाल ने शीला फौजी उर्फ वेद व्यास व काला नंबरदार के सामने उसकी बेरहमी से पिटाई की थी। थर्ड डिग्री टॉर्चर भी किया था।

पवन की तबीयत बिगड़ती देख आरोपी पुलिसकर्मी ने बेटे को थाने से ले जाने का मैसेज किया था : फूलो देवी
फूलो देवी ने बताया कि थाने में पवन कुमार की तबीयत बिगड़ती देख आरोपी पुलिसकर्मी ने उसके बेटे को थाने से ले जाने का मैसेज किया था।

जब वे गांव के मौजिज लोगों के साथ पवन को पुलिस थाने लेने पहुंची तो पवन की हालत काफी नाजुक थी। पवन चलने में असमर्थ था।

फूलो देवी ने बताया कि 1 जनवरी को उसके बेटे पवन की बहुत ज्यादा तबीयत बिगड़ गई, जिसकी वजह से पवन की मौत हो गई।

पोस्टमार्टम में भी शरीर पर चोट लगने से मौत होने की पुष्टि हुई थी। महिला का आरोप हैं कि बराड़ा डीएसपी ने भी कार्रवाई का आश्वासन दिया था, लेकिन पुलिस ने निष्पक्ष जांच नहीं की।

साहा थाना प्रभारी इंस्पेक्टर यशदीप सिंह ने बताया कि महिला की शिकायत पर डीडीअार दर्ज की गई थी। पुलिस ने चोरी के आरोप में पवन को पकड़ा था। जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...