सेना के रिटायर्ड सैनिक से ठगी:ATM पास होने के बावजूद 8 दिन में खाते से निकले 1 लाख 74 हजार, नहीं देखे मोबाइल पर मैसेज

अंबाला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सेना से रिटायर्ड सिपाही चन्नण सिंह। - Dainik Bhaskar
सेना से रिटायर्ड सिपाही चन्नण सिंह।

हरियाणा के अंबाला के बराड़ा में रहने वाले सेना से रिटायर्ड सिपाही के खाते से 1 लाख 74 हजार रुपए निकाल लिए गए। खाते से 8 दिन लगातार पैसे निकाले गए। पैसे निकलने के मैसेज रिटायर्ड सिपाही चन्नण सिंह के पास आए, लेकिन वह देख नहीं पाया। कुछ दिन बाद जब वह अपने बेटे संग पैसे निकलवाने के लिए गया तो अकाउंट खाली पड़ा था। यह देखकर उनके होश उड़ गए। इसके बाद जब मोबाइल पर मैसेज देखे तो पता चला कि 8 दिन लगातार खाते से कभी 20 तो कभी 30 हजार रुपए निकाले गए।

उन्होंने पंजाब एंड सिंध बैंक बराड़ा में संपर्क कर डिटेल निकलवाई तो पूरा खुलासा हुआ। हालांकि बराड़ा पुलिस छह माह से अपने स्तर पर मामले की जांच में जुटी हुई थी। जब कोई सुराग नहीं लगा तो बराड़ा पुलिस ने बुधवार को अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया।

पंजाब एंड सिंधबैंक का एटीएम
पंजाब एंड सिंधबैंक का एटीएम

अलग-अलग ATM से निकले थे पैसे

शिकायत में बुजुर्ग चन्नण सिंह ने बताया कि पंजाब एंड सिंध बैंक बराड़ा का ATM लिया हुआ है। 26 मई को 25 हजार रुपए, 27 को 22 हजार, 28 को 23 हजार, 29 को 20 हजार, 30 को 23 हजार, 1 जून को 23 हजार, 2 जून को 24 हजार व 3 जून को 20 हजार रुपए निकल गए। इस तरह से कुल 1 लाख 74 हजार रुपए खाते से निकल गए, जबकि ATM मेरे पास ही है। ऐसे में कैसे मेरे कार्ड का क्लोन बनाकर खाते से पैसे निकाल लिए इसकी मुझे कोई जानकारी नहीं है। बैंक से मिली जानकारी से पता चला कि ठग ने अलग-अलग जगह पर ATM से पैसे निकलवाए हैं। सब इंस्पेक्टर ज्ञानचंद का कहना है कि मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है।

शातिर ठग ने बुजुर्ग होने का उठाया फायदा

चन्नण सिंह के बुजुर्ग होने के फायदा उठाते हुए ATM कार्ड का क्लोन ही तैयार कर लिया। पहली बारी में पैसे निकलने के बाद खाता बंद नहीं हुआ तो ठग ने अलगे दिन फिर पैसे निकाल लिए। इसी तरह ठग कार्ड बंद होने से पहले थोड़ी-थोड़ी कर पूरी राशि निकलवाता रहा। पुलिस सब इंस्पेक्टर ज्ञानचंद का कहना है कि खाते से जुड़े नंबर पर आने वाले मैसेज का पूरी सतर्कता से ध्यान रखना चाहिए। समय रहते ATM से छेड़छाड़ की जानकारी मिल सके और उसे बैंक में जाकर बंद करवाया जा सके।